संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद् में भारत की मेम्बरशिप का पाकिस्तान ने किया समर्थन, घुटनों पर आतंकीस्तान


बहुत सारे लोगो को इस घटना पर यकीन नहीं हो रहा की पाकिस्तान कैसे भारत का संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद की मेम्बरशिप पर समर्थन कर सकता है 

पर ये बात सच है, एशिया के देशों ने भारत का संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद् में अस्थाई मेम्बरशिप के लिए समर्थन किया है, भारत फिर से संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में अस्थाई मेम्बर चुन लिया गया है 

भारत 2 सालों तक के लिए फिर से मेम्बर रहेगा और बड़ी बात ये की भारत की मेम्बरशिप का पाकिस्तान ने संयुक्त राष्ट्र में समर्थन किया है 

एशिया पैसिफिक के 55 देशो ने संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद् में भारत की अस्थाई मेम्बरशिप का समर्थन किया, भारत पहले से ही संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद् का अस्थाई मेम्बर था, और फिर से 2 सालों के लिए चुन लिया गया है 

5 देश ऐसे है जिन्हें संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद् में स्थाई मेम्बरशिप हांसिल है, इन्ही देशों के पास वीटो पॉवर भी है, भारत काफी लम्बे समय से स्थाई मेम्बरशिप की दावेदारी ठोक रहा है पर अबतक भारत को स्थाई मेम्बरशिप नहीं मिल सकी है 

पर अस्थाई मेम्बर भारत पहले से है और फिर चुना गया है और 55 देशों में पाकिस्तान भी शामिल है जिसने भारत का अस्थाई मेम्बरशिप के लिए समर्थन किया है 

भारत 2021-22 तक अब अस्थाई मेम्बर रहेगा, जिन जिन देशों ने भारत का समर्थन किया उनमे अफगानिस्तान, बांग्लादेश, भूटान, इंडोनेशिया, ईरान, जापान, कुवैत, मालदीव, म्यांमार, नेपाल, क़तर, सऊदी अरब, श्रीलंका, टर्की, वियतनाम  जैसे देश शामिल है 



और इन देशों में पाकिस्तान के साथ साथ चीन भी है जिसने भारत का समर्थन किया है, आपकी जानकारी के लिए बता दें की बालाकोट एयर स्ट्राइक के बाद से ही पाकिस्तान घुटनों पर है, और भारत से बातचीत के लिए एक तरह से भीख मांग रहा है, हालाँकि भारत ने पाकिस्तान से अबतक बातचीत नहीं की है 

पाकिस्तान की लगातार कमर टूट रही है, उसकी आर्थिक स्तिथि बहुत ख़राब हो रही है, और वो भारत से बातचीत करने के लिए अब पूरी तरह से जमीन पर लोटा हुआ है, इतिहास में पाकिस्तान की ऐसी स्तिथि पहली बार हुई है, जब वो भारत के सामने गिदगिड़ा रहा है