अंसार रज़ा एक मजहबी गुंडा है, जिसकी जगह जेल में है टीवी डिबेट में नहीं : डॉ रिज़वान अहमद

रिज़वान अहमद - अंसार रज़ा 

आप ने अक्सर टीवी डिबेट में अंसार रज़ा को देखा होगा, ये शख्स अक्सर कट्टरपंथी बातें करता है, पर मीडिया के लोग इस शख्स को बार बार टीवी डिबेट में बुलाते है और इस शख्स को बुद्धिजीवी बताया  जाता है 

पर पिछले कुछ दिनों से डॉ रिज़वान अहमद ने एक मुहीम छेड़ी हुई है, और ये मुहीम है टीवी डिबेट्स को कट्टरपंथियों से मुक्ति दिलवाना 

इसके तहत डॉ अहमद मीडिया के लोगों से लगातार अपील कर रहे है की टीवी डिबेट्स में मजहबी  कट्टरपंथियों को न बुलाया जाये क्यूंकि ये लोग देश में नफरत फैलाने के लिए बयानबाजी करते है 

आज "आजतक" नामक निजी चैनल पर एक डिबेट में चैनल में डॉ रिज़वान अहमद को डिबेट में हिस्सा लेने के लिए न्योता दिया था, इस डिबेट में इस चैनल ने अंसार रज़ा को भी बुलाया हुआ था 

जब डॉ रिज़वान अहमद को बोलने का मौका मिला तो उन्होंने साफ़ शब्दों में कहा की - चैनल जिस अंसार रज़ा को बुद्धिजीवी बता रहा है वो बुद्धिजीवी नहीं बल्कि एक मजहबी गुंडा है 

डॉ अहमद ने बताया की - ये वो अंसार रज़ा है जिसने गज़नी और गौरी को अपना हीरो बताया था, वो जिन्होंने भारत पर हमले किये, हिंसा और लूट की उनको अपना हीरो बताया था 


रिज़वान अहमद ने कहा की - अंसार रजा की जगह टीवी डिबेट में नहीं बल्कि जेल में है, और जबतक इसके खिलाफ कार्यवाही नहीं होती, या ये सार्वजानिक माफ़ी नहीं मांगता, तबतक मैं इसके साथ डिबेट में नहीं बैठूंगा, ये कहकर रिज़वान अहमद उठ गए 

बता दें की देश की मीडिया के लोग लगातार अपने चैनल पर अंसार रज़ा, मौलाना साजिद रशीदी जैसे लोगों को बुला रही है और ये लोग आये दिन देश और दूसरे धर्म के लोगों के प्रति जगह उगल रहे है, रिज़वान अहमद इन लोगों के खिलाफ मुहीम चला रहे है, जिसका देश के आम लोगों  को समर्थन किया जाना चाहिए 

Loading...


Loading...