शरिया अदालत का समर्थन कर रहे है आंबेडकर के नाम पर राजनीती करने वाले लोग, शरिया अदालत तो आंबेडकर का अपमान



देश में कट्टरपंथी भारत के संविधान को चुनौती दे रहे है, ये संविधान बाबा साहेब भीमराव रामजी आंबेडकर ने बनाया था, पर कट्टरपंथी अब इसी संविधान को चुनौती देते हुए कह रहे है की हमारे लिए शरिया संविधान से ऊपर है 

कट्टरपंथी शरिया अदालत मांग रहे है, कट्टरपंथी अलग देश की भी मांग कर रहे है, और सीधे तौर पर भारत को चुनौती दे रहे है, कट्टरपंथियों द्वारा शरिया अदालत की मांग बाबा साहेब भीमराव रामजी आंबेडकर का अपमान है 



वैसे जो लोग आंबेडकर के नाम पर राजनीती करते है उदाहरण के तौर पर राहुल गाँधी, केजरीवाल, मायावती, देश के तमाम वामपंथी 

ये सब शरिया अदालत पर मूक समर्थन दे रहे है, कांग्रेस पार्टी के नेता और कर्णाटक में मंत्री ज़मीर अहमद खान ने तो खुलकर शरिया अदालत का समर्थन किया है, और बाकि जितने भी लोग आंबेडकर के नाम पर राजनीती करते है, दलित चिन्तक और दलित एक्टिविस्ट बनकर घूमते है वो कट्टरपंथियों का मूक समर्थन कर रहे है 

देश के खाप पंचायतों पर डिबेट चलाने वाले लोग मुसलमानों द्वारा शरिया अदालत की मांग पर ऐसे छुप है जैसे इनके मुह में दही जैम गयी हो 
loading...
Loading...



Loading...