हम हिन्दुओ की आखिरी पीढ़ी, अगर हमने धर्म नहीं बचाया तो आने वाली पीढ़ी गुलाम होगी : सुरेश चाव्हानके



जब देश के कई इलाकों में इस्लामिक हमलावरों का कब्ज़ा था, तब भी हिन्दुओ ने हार नहीं मानी और कभी भी भारत का इस्लामीकरण नहीं होने दिया, इसकी एक वजह भी थी 

वजह ये थी की हिन्दू सेक्युलर नहीं बल्कि हिन्दू थे, मुस्लिम बच्चे पैदा करते थे तो हिन्दू भी बच्चे पैदा करते थे, पर आज़ादी के बाद से हिन्दुओ को परीवार नियोजन का डोज देकर ऐसा बना दिया गया की मुस्लिम तो 5 बच्चे कर रहे है पर हिन्दू 1 

और अब हिन्दू खतरे में है ये बात एक तथ्य है, क्यूंकि हिन्दू 1 बच्चा कर रहा है और मुस्लिम 5 - आने वाले समय में मुस्लिम हिन्दुओ को संख्या में पछाड़ देंगे, और ऐसी सूरत में हिन्दुओ का क्या भविष्य होगा, इसके तो कई उदाहरण हमारे सामने है, जैसे पाकिस्तान, बांग्लादेश, अफगानिस्तान इत्यादि 


सुरेश चाव्हानके भी इस चीज को समझते है, और इसी कारण उन्होंने एक बड़ी ही गहरी बात कही और कहा की हम आज के वर्तमान हिन्दू, हम हिन्दुओ की वो आखिरी पीढ़ी है जिसके पास इतिहास बनाने या बदलने का मौका है 

अगर हम अब चुक गए, तो हमारी आने वाली पीढ़ी गुलाम होगी, हम सफल हुए तो ही आने वाले समय में भी भारत और हिन्दू बना रहेगा, अन्यथा न सिर्फ हिन्दू का इतिहास मिट जायेगा अपितु भारत शब्द भी इतिहास का हिस्सा हो जायेगा, और इस देश में मुस्लिम बढती जनसँख्या के साथ गजवा हिन्द कर भारत का नाम भी बदल देंगे 

Loading...


Loading...