साधारण सामाजिक कार्यकर्त्ता बनकर मोटा माल बना लिया, नीरव मोदी की कंपनी में भी कैश लगाया



योगेंद्र  यादव को तो आप जानते ही होंगे, ये अर्बन नक्सली है, साधारण सामाजिक कार्यकर्त्ता  बनकर घुमा करते है, पर इस धंधे से इन्होने मोटा माल बनाया है, ये खुद तो बहुत साधारण दीखते है, और बातें भी बड़ी मीठी मीठी किया करते है 

पर लूट के धंधे वालों का अलग अलग स्टाइल होता है, और साधारण सा दिखना और मीठी मीठी बाते करना ये इनका स्टाइल है, आपकी जानकारी के लिए बता दें की योगेंद्र यादव का एक दूसरा नाम भी है वो है सलीम 

योगेंद्र यादव कल से ही मोदी पर बदले की कार्यवाही करने का आरोप लगा रहे है, असल में रेवाड़ी में इनकी बहन जीजा और भतीजे का प्राइम लोकेशन पर अस्पताल निकला है, योगेंद्र यादव ने खुद अपने नाम पर ये अस्पताल नहीं रखा है, बड़े चालक जो है 

इनकम टैक्स  विभाग ने इनकी बहन के नाम पर जो अस्पताल है उसपर छापा मारा, और 22 लाख रुपए भी जप्त किये, इनकम टैक्स की टीम ने बताया की योगेंद्र यादव की बहन ने पंजाब नेशनल बैंक के लुटेरे नीरव मोदी की कंपनी को मोटा माल दिया है, वो भी कैश में 



22 लाख तो इनकी बहन के वहां से जप्त किये गए है, क्यूंकि इस पैसे का इनकी बहन के पास कोई हिसाब नहीं है की कहाँ से प्राप्त किया, इसके अलावा ये भी पता चला की नीरव मोदी की कंपनी में कैश इनकी बहन ने लगाए है, अब इसकी अलग से जांच होगी 

अब ये जो 22 लाख है अगर वाइट में कमाए हो तो मजाल है इनकम टैक्स विभाग की, जो 1 रुपए भी जप्त कर सके, योगेंद्र यादव झोला दिखाकर जो सामाजिक कार्यकर्त्ता बने फिरते है, ये  कमाई वहां की है, और ये भी इतनी काली की कोई हिसाब ही नहीं की कैसे कमाए 

 योगेंद्र यादव का अब  कहना है की मोदी बदले की कार्यवाही कर रहे है, बहन इनकी बता नहीं पायी की 22 लाख कहाँ से लाइ, ऊपर से नीरव मोदी की कंपनी में काली कमाई लगाने का खुलासा अलग से हो गया, साधारण सा बनकर घूमते है योगेंद्र यादव पर मोटा माल बनाया है इन्होने सामाजिक  कार्यकर्त्ता के धंधे से, स्वराज स्वराज करने वाले अर्बन नक्सलियों की ये ही असलियत होती है 

Loading...


Loading...