आज से 2000 साल पहले तक आयरलैंड से लेकर इंडोनेशिया तक फैला हुआ था हिन्दू धर्म : डॉ फ्रॉली



हिन्दू धर्म धीरे धीरे पतन की ओर जा रहा है और ये बात सच है, हम लगातार सिकुड़ रहे है और कारण एक मात्र है वो है हमारा सेकुलरिज्म,  दूसरे मजहब के लोग अपने मजहब को फैलाने में लगे है, अपनी विचारधारा को फैलाने में लगे है और हम हिन्दू समाज के लोग सेकुलरिज्म में 

आज से 70 साल पहले तक कराची लाहौर में हिन्दुओ के पर्व उसी तरह मनाये जाते थे जैसे आज दिल्ली में मनाये जाते है, पर अब पाकिस्तान और बांग्लादेश बन गया और हिन्दू साफ़ कर दिए गए 

और 70 साल में भी हमने वही गलतियां की है जो उस से पहले की थी, आज कश्मीर से लेकर केरल और गुजरात से लेकर नागालैंड तक में कई कई इलाकों से हिन्दू साफ़ कर दिए गए है, हर शहर में मिनी पाकिस्तान और उत्तर पूर्व से लेकर केरल तक में मिनी वैटिकन बने हुए है, जहाँ हिन्दू साफ़ कर दिए गए 

दूसरे मजहब के लोग अपना मजहब फैलाने में लगे है और हम सेकुलरिज्म में - ये ही मुख्य कारण है की वो फ़ैल रहे है और हम सिकुड़ रहे है 


यहाँ तक की विदेशी मूल के हिन्दू लोगों को भी  बात को समझते है पर बड़े दुर्भाग्य की बात है की भारत के हिन्दू अब धर्म से बिमुख होकर सेक्युलर बन चुके है 

अमेरिकी मूल के हिन्दू डॉ डेविड फ्रॉली भी इस बात को समझते है, और तभी उन्होंने आज कहा की आज से 2000 साल पहले तक हिन्दू धर्म आयरलैंड से लेकर इंडोनेशिया तक फैला रहा, पहले हम आपको ये नक्शा दिखा दे 


आयरलैंड से लेकर  इंडोनेशिया तक 
ये जो नक्शा देख रहे है, हिन्दू धर्म का प्रभाव यूरोप के शुरुवात से  लेकर इंडोनेशिया तक  था, 2000 साल पहले धरती पर कोई ईसाइयत कोई इस्लाम कोई जीजस कोई मोहम्मद कोई बाइबल कोई कुरान नामक चीज नहीं थी 

हिन्दू धर्म यूरोप अरब एशिया में फैला हुआ था,  पर हिन्दू समाज सेकुलरिज्म निभाता रहा और देखते ही देखते कई इलाके ईसाइयत तो कई इलाके इस्लाम में तब्दील कर दिए गए 

और आज भी तो हिन्दू वहीँ है, इसी कारण जो हिन्दू समाज यूरोप से लेकर इंडोनेशिया तक फैला हुआ था, वो सिर्फ वर्तमान  भारत में ही बचा है और यहाँ भी लगातार सिकुड़ता जा रहा है, हिन्दू धर्म और समाज को जो बीमारी लगी हुई है उसका नाम सेकुलरिज्म है 

Loading...


Loading...