बड़ा खुलासा : हामिद अंसारी के ईरान में राजदूत रहते, ईरान ने RAW के 2 जासूसों को पकड़ा था



हामिद अंसारी पर जो जानकारी हम आपको देने वाले है वो आप जानकर चौंक जायेंगे 
बता दें की उपराष्ट्रपति हामिद अंसारी पहले भारत की तरफ से कई देशों में राजदूत भी रह चुके है 

1990-92 के दौरान हामिद अंसारी ईरान में भारत के राजदूत थे 
और भारतीय दूतावास जो ईरान की राजधानी तेहरान में स्तिथि है, वहां तैनात थे 

भारत की ख़ुफ़िया एजेंसी रॉ के पूर्व अफसर आरके यादव ने एक किताब लिखी है, “Mission R&AW” 

Image result for RK YADAV “Mission R&AW”
रॉ अफसर आरके यादव की किताब 

आरके यादव रॉ के रिटायर्ड अफसर हैं, उन्होंने अपनी इस किताब में हामिद अंसारी पर बड़े खुलासे किये है, जो बेहद गंभीर है 

* आरके यादव ने हामिद अंसारी पर बताया है की हामिद अंसारी 1990-92 के दौरान तेहरान में भारतीय राजदूत के तौर पर तैनात थे और मैं भी भारतीय दूतावास का कर्मचारी बनकर तैनात था 

* आरके यादव ने बताया की, संदीप कपूर नाम के एक रॉ जासूस को, जो की हामिद अंसारी के भी संपर्क में था चूँकि ईरान में हामिद अंसारी भारत के राजदूत थे 
ईरान ने संदीप कपूर को तेहरान हवाई अड्डे पर गिरफ्तार किया था, संदीप कपूर को 3 दिन तक ईरानियों ने पकड़कर रखा उसे यातनाएं दी और 3 दिन बाद तेहरान में ही एक खाली सड़क पर फेंक दिया 

आरके कपूर ने बताया की हामिद अंसारी ने राजदूत रहते हुए संदीप कपूर की कोई मदद नहीं की, और ईरानी सरकार के सामने उसका मुद्दा उठाने से भी इंकार कर दिया 

* आरके यादव ने ये भी बताया की, ऐसा ही एक औरभारतीय था, जिसका नाम था बीड़ी माथुर 
बीड़ी माथुर तेहरान में काम कर रहा था, और एक दिन सुबह ईरानियों ने उसका अपहरण कर लिया, जब कई दिनों तक बीड़ी माथुर का कुछ पता नहीं चला 
तो उसकी पत्नी और अन्य लोग राजदूत हामिद अंसारी के पास आये, की वो ईरानी सरकार से बीड़ी माथुर को खोजने की बात करे, पर हामिद अंसारी ने बीड़ी माथुर का मुद्दा ईरानी सरकार के सामने उठाने से इंकार कर दिया 

आरके यादव ने बताया की वहां मौजूद महिलाओं ने हामिद अंसारी को खूब गालियां भी दी थी 
पर तब भी वो टस से मस नहीं हुआ, इसके बाद आरके यादव ने अटल बिहारी वाजपेयी से दिल्ली में बात की, अटल बिहारी वाजपेयी ने ये मुद्दा प्रधानमंत्री नरसिम्हा राव के सामने उठाया 
तब जाकर नरसिम्हा राव ने हस्तक्षेप किया तो ईरानी सरकार ने बीड़ी माथुर को छोड़ा, पर उसे 72 घंटों में ईरान छोड़ने को भी कहा 

आरके यादव ने ये भी बताया की न सिर्फ भारतीय जासूसों को हामिद अंसारी के रहते पकड़ लिया जाता था 
बल्कि भारतीय दूतावास में काम करने वाले अन्य भारतीयों को भी ईरानी सरकार परेशान करती थी 
जिसका मुद्दा हामिद अंसारी ने ईरानी सरकार के सामने कभी नहीं उठाया 

आरके गुप्ता ने ये भी बताया की तेहरान में मौजूद पाकिस्तानी दूतावास से हामिद अंसारी के ज्यादा करीबी सम्बन्ध थे, जितना करीब भारतीय राजदूत हामिद अंसारी भारतीयों के नहीं थे उस से ज्यादा उनकी करीबी पाकिस्तानियों से थी 

आरके यादव ये भी कहते है की, मैं भी उसी भारतीय दूतावास में तैनात था, और मुझे शर्म आती थी की हामिद अंसारी जैसा शख्स भारत का यहाँ राजदूत है 

हामिद अंसारी का असली डर क्या है, उसके लिए ये वीडियो देखें