खुद को यादव बताने वाले अखिलेश, मुलायम ने लगाई हुई थी श्रीकृष्ण जन्माष्टमी पर रोक, योगी आये तो......


जातिवाद एक बहुत ही गन्दी बीमारी है 
आज भी उत्तर प्रदेश और बिहार में अधिकतर यादव लालू, मुलायम, अखिलेश यादव के साथ है 

इसलिए नहीं की ये बहुत अच्छे और विकासपुरुष नेता है, ईमानदार है, देशभक्त है 
सिर्फ इसलिए की ये यादव है 

अधिकतर यादव जातिवाद में आकर ही इन नेताओं का समर्थन करते है 
जबकि सच क्या है 

* लालू, मुलायम, अखिलेश ये सभी जो यादव बनते है, ये गौहत्या के पक्ष में है, ये गौमांस के पक्ष में है 
ये गौरक्षको को गुंडा बताते है 

अभी उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने जन्माष्टमी के 1 दिन बाद बयान दिया था 
योगी ने कहा था की, "सड़क पर नमाज़ नहीं रोक सकते तो थाने में जन्माष्टमी भी नहीं रोक सकते"

अब थाने में जन्माष्टमी मनाई गयी 
पर देखिये ठीक 25 साल बाद हिन्दू थाने में जन्माष्टमी मना सके, खुद को यादव बनने वाले मुख्यमंत्रियों ने थाने में जन्माष्टमी मनाने पर रोक लगायी थी, मायावती के शासन में भी ये जारी रहा 

अब योगी आये तब जाकर श्रीकृष्ण जन्माष्टमी थाने में मनाई जा सके 
खुद को यदुवंशी बताकर राजनीती का धंधा करने वालो ने थाने में श्रीकृष्ण के जन्मदिवस को ही बैन किया हुआ था 
loading...
Loading...



Loading...