सरदाना ने पूछा, "मदरसों को ऑनलाइन करने से कट्टरपंथियों को क्यों दिक्कत है", लोग बोले "पोल खुल.....



15 अगस्त से पहले योगी सरकार ने राज्य के सभी मदरसों को राष्ट्रध्वज फहराने और राष्ट्रगान गाने का आदेश जारी किया था, जिसके बाद देश भर के  सेक्युलर तत्वों ने इसपर आपत्ति दर्ज कराई थी 

पर बाद में कई मदरसों में राष्ट्रगान नहीं गाया गया, कई मदरसों ने तो राष्ट्रगान को इस्लाम में हराम तक घोषित कर दिया, जिसके बाद साफ़ हो गया की योगी सरकार ने सही ही आदेश दिया था 

अब योगी सरकार ने एक और आदेश जारी किया है 
योगी सरकार ने एक ऑनलाइन पोर्टल लांच किया है, राज्य के जितने भी मदरसे है उन सभी को अपना रजिस्ट्रेशन ऑनलाइन करवाना होगा 

मदरसे में कितने छात्र है, कितने शिक्षक है 
क्या पढ़ाया जाता है, सिलेबस इत्यादि सबकुछ ऑनलाइन करना होगा 

अब इसके बाद  कट्टरपंथियों और सेक्युलर तत्वों ने इसका भी विरोध करना शुरू कर दिया 
इसे मुसलमानो पर हमला करार दिया जा रहा है 

रोहित सरदाना जो की देश के एक जाने माने पत्रकार है, उन्होंने कट्टरपंथियों की मंशा पर ही सवाल उठा दिया 


जब मदरसों में कुछ गलत नहीं हो रहा, कोई हेर फेर नहीं हो रहा तो फिर कट्टरपंथी तत्व मदरसों के ऑनलाइन होने पर आपत्ति क्यों दर्ज करवा रहे है 

लोगों ने भी रोहित सरदाना को जवाब दिए 


बता दें की कई रिपोर्ट ऐसी  पहले भी कई दफा आ चुकी है जहाँ मदरसों से आतंकवाद की गतिविधियां चलने की बात सामने आ चुकी है, कई मदरसों में हथियार भी मिले है, विस्फोटक भी जप्त किये गए है 

दूसरी जरुरी चीज ये की, मदरसे तो कई खोल दिए गए है 
पर ये सिर्फ नाम के है, यहाँ कोई छात्र पढ़ते ही नहीं, जबकि बताया जाता है की इतने छात्र पढ़ रहे है 
अरब के देशों से भारी मात्रा में पैसा आता है, और कई मदरसे तो सिर्फ हवाला का खेल करने के लिए खोले गए है 

Loading...


Loading...