सिर्फ बेचैनी और डर ही नहीं मोदी के कारण देश में आतंक और अफ़रातफ़री का माहौल : मायावती


पहले चुनाव में बुरी तरह से हारी और फिर 2019 चुनाव में लोगों की सहानुभूति पाने के लिए संसद से इस्तीफा दे दिया और इसका इलज़ाम भी मोदी सरकार पर लगाया और आज जब भारत में हालात सुधर रहे हैं तो इन्हे देश में हर तरफ भय व आतंक जैसा माहौल लग रहा हैं।

बहुजन समाज पार्टी प्रमुख मायावती ने गुरुवार को हामिद अंसारी के सुर में सुर मिलाते हुए भाजपा और मोदी सरकार पर आरोप लगाया और कहा कि भाजपा और मोदी सरकार के साम, दाम, दंड, भेद आदि हथकंडों और असंवैधानिक, अलोकतांत्रिक नीति व व्यवहार के कारण देश में हर तरफ भय, आतंक, बेचैनी और अफरातफरी जैसा माहौल है।

दलितों की राजनीती करते हुए मायावती बोली कि "सर्वसमाज में खासकर- गरीबों, मजदूरों, किसानों, युवाओं, बुद्धजीवी और व्यापारी वर्ग के साथ-साथ दलितों, पिछड़ों, मुसलिम व अन्य धार्मिक अल्पसंख्यकों के प्रति हर प्रकार की सरकारी उपेक्षा, भेदभाव और नाइंसाफी को आज पूरा देश महसूस कर रहा है"।

अगर देश की जनता नाइंसाफी और भेदभाव महसूस करती तो भाजपा को देश के राज्यों में जीत हासिल नहीं कर पाती। पूरा देश जहाँ स्वतंत्रता दिवस की तैयारी में लगा हुआ हैं वही सपा, बसपा, कांग्रेस और विपक्ष मोदी सरकार और भाजपा के विरुद्ध षड्यंत्र बनाने में मग्न हैं।