आज चीन हमें धमकी दे रहा है तो देश के लुटेरे बोल रहे हैं, "चीन से युद्ध के लिए हमारी तैयारी पूरी नहीं है"



कांग्रेस पार्टी के नेता चीनी अधिकारीयों से लगातार संपर्क में है 
और ये बात अब पूरी दुनिया ही जानती है, लगातार चीनी राजदूत से राहुल गाँधी की मुलाकातें होती है 
पिछले 1 साल में 3 बार चीनी राजदूत से राहुल गाँधी ने मुलाकात की है 

आपको ये भी जानकारी होनी चाहिए की 1962 में चीनी हमले से ठीक पहले नेहरू चीन गया था, और उसी के बाद चीन ने भारत पर हमला किया 
चीनी तानाशाह से नेहरू का खूब मिलना जुलना था 

आज कांग्रेस पार्टी बार बार नरेंद्र मोदी पर निशाना साध रही है, कह रही है की चीन के खिलाफ हमारी तैयारी  पूरी नहीं है, मोदी सरकार कुछ नहीं कर रही है, इत्यादि इत्यादि 

ज्ञात हो की चीन और भारत दोनों को एकसाथ ही आज़ादी मिली थी 
भारत आज़ादी के समय चीन से अधिक शक्तिशाली था, चीन की हालत भारत से ख़राब थी, पर ऐसा क्या हुआ की चीन भारत से आगे निकल गया, जरा इन महत्व्यपूर्ण बिंदुओं पर गौर करें 


* जब चीन अपनी सैन्य ताकत बढ़ा रहा था, हथियार के कारखाने खोल रहा था 
तब हम बोफोर्स/हेलीकाप्टर/पनडुब्बी घोटाले कर रहे थे..नेहरू ने तो हथियारों के कारखाने बंद भी करवाए थे 

* जब वो दुनिया को कच्चा माल बेच रहा था, तब हम कोयला घोटाला कर रहे थे..

* जब वो दुनिया को अपना अनाज सप्लाई रहा था, तब हम चारा घोटाला कर रहे थे..

* जब वो अपनी टेक्नोलॉजी से दुनिया को चौंका रहा था, तब हम 2G घोटाला कर रहे थे..

* जब वो ओलंपिक के लिए अपने खिलाड़ियों को बेहतर से बेहतर सुविधाएं दे रहा था, तब हम कॉमनवेल्थ घोटाला कर रहे थे..

 चीन तरक्की करता गया और 60 साल राज करने वाली कांग्रेस भारत में घोटाले पर घोटाले करती रही 
और आज जब चीन हमें धमकी दे रहा है तो घोटाले करने वाले वतन के ये गद्दार बोल रहे हैं.."चीन से युद्ध के लिए हमारी तैयारी पूरी नहीं है"