आज भी अधिकतर हिन्दू एकजुट नहीं है, मोदी में नहीं समाज में कमी है, अभी बहुत कार्य करने की जरुरत है !


विडंबना बीजेपी की अर्थात् मोदी जी की........
#यहाँ_हर_डाल_पे_उल्लू_बैठे_हैं

नब्बे के दशक में बीजेपी हिंदुत्व की उग्र राष्ट्रवादी विचारधारा के रथ पर सवार होकर उत्तर प्रदेश में सत्ता से शिखर पर पहुच गयी ......

बीजेपी थिंक टैंक को यही लगा की पूरा हिन्दू समाज इस आन्दोलन में हमारे साथ है...
और इसी जोश में उसने बाबरी मस्जिद बाकायदा प्रशासन की मौजूदगी में गिरावा दी ....

लेकिन इस जोश में बीजेपी भूल गयी की उसे इस आन्दोलन में महज़ 23 प्रतिशत हिंदुओं का समर्थन मिला है ....
यानी एक बड़ा तबका अभी भी आपके उग्र राष्ट्रवाद के खिलाफ है ...

और इसका परिणाम हुआ कि 5 राज्यों में उसकी सरकारों को बर्खास्त कर दिया गया ..
उत्तर प्रदेश में दुबारा चुनाव हुए लेकिन बीजेपी की फिर वापसी नहीं हुई ............

2014 में मोदी जी की सरकार बनी ...
282 सीटें लोक सभा में मिली ..कुल 17 करोड़ से ज्यादा वोट मिले ......तो
आपको क्या लगता है पूरा हिन्दू समाज एकजुट हो गया ....??

अगर आप ऐसा सोचते हैं तो आप गलत है ....
मोदी जी को 2014 के लोक सभा चुनावों में 39 प्रतिशत वोट मिले यानी करीब 17 करोड़ वोट ...
जबकि कांग्रेस को 10 करोड़ लोगों ने वोट किया ....

मायावती जैसी नेता को भी 2 करोड़ वोट मिले ......
आप बताइये ये 12 करोड़ मतदाता जिन्होंने कांग्रेस और बसपा जैसी पार्टियों को वोट किया ....
ये लोग किस विचारधारा का प्रतिनिधित्व करते हैं .........

मतलब कि आज भी भारत में एक बड़ा तबका मोदी के खिलाफ है यानी वो आपके हिन्दू राष्ट्रवाद में यकीन नहीं रखता ....

ये तबका वही है जो भारत के विश्वविद्यालयों में कश्मीर की आजादी के नारे लगाता है ...
जो खुलेआम भारत की संप्रभुता पर प्रश्न चिन्ह लगाता है .....
जो चीन के साम्यवाद और भारत विरोधी निति का खुला समर्थन करता है....
और ये वही तबका है जो खुले आम गौ हत्या करना अपना समवैधानिक अधिकार समझता है ......

मोदी जी अक्सर इन देश द्रोही तत्वों की कारगुजारियों पर चुप रहते हैं क्यों कि वो जानते हैं कि अगर भारत के 17 करोड़ लोग मेरे पक्ष में हैं तो 12 करोड़ से ज्यादा ऐसे लोग है जो आज भी उनके के खिलाफ है ....
मोदी के खिलाफ मतलब हिन्दू राष्ट्रवाद के खिलाफ ....

याद कीजिये लोकसभा चुनाव के समय मोदी जी ने एक अंग्रेजी समाचार पत्र को दिए एक साक्षात्कार में कहा था कि हाँ मै हिन्दू राष्ट्रवादी हूँ ........
मोदी जी आज भी पूर्ण बहुमत के बावजूद उतने शक्तिशाली नहीं है .....

जिस दिन भारत के 50 प्रतिशत हिंदुओं ने भी अपने दम पर मोदी जी लोक सभा में जिताया मै दावे के साथ कह सकता हूँ कि जिन मुद्दों पर आज मोदी जी को झेंपना पड़ रहा है उन मुद्दों पर मोदी की दहाड़ केवल भारत में ही नहीं सम्पूर्ण एशिया यूरोप और अमेरिका तक सुनाई देगी .....

जिस देश में 100 करोड़ लोग एक साथ एक विचारधारा का झंडा लेकर खड़े हो जाएँ उसकी बात भला कौन नहीं सुनेगा .....??
आज पूरी दुनिया मोदी जी को सिर्फ इसलिए सुन रही है क्यों कि मोदी भारत की सबसे बड़ी राजनितिक पार्टी का प्रतिनिधत्व करते हैं .....

कुछ चीज़े हमारी आपकी मर्जी से नहीं होती है .....
मै बस इतना जानता हूँ कि आज मोदी जो कुछ भी करेंगे उसका असर 5 या दस सालों में आपको दिखेगा ......
लेकिन दिखेगा जरुर .....
और कांग्रेस को खत्म करने की जरूरत नहीं ......

मै जब भी कांग्रेस को देखता हूँ तो मशहूर शायर #शौक_बहराईची का वो शेर याद आ जाता है कि “एक उल्लू ही काफी है बर्बाद गुलिस्ता करने को..अंजाम ए गुलिस्ता क्या होगा ..हर शाख पे उल्लू बैठे हैं ......

चिंता मत कीजिये कांग्रेस वही गुलिस्ता है जहाँ हर डाल पे उल्लू बैठे हैं।
अंत में यही कहूंगा कि यदि तुम राष्ट्र को मजबूत देखना चाहते हो तो राष्ट्रवादी मोदी जी को मजबूत करो....