भारत माँ की मूर्ति को नंगा किया, उनके केश काटे, चेहरे पर पोत दी कालिख - ये है ममता का बंगाल


यदि इसी को कहते हैं धर्म निरपेक्षता को क्या आप धर्म निरपेक्ष होना चाहेंगे ? यदि इसी को कहते हैं सुशासन तो क्या आप ऐसे शासन में रहना चाहेंगे .. पहले ताबड़तोड़ हिन्दुओं पर हमले हुए फिर अचानक भारत माता से भी दुश्मनी हो गयी .. अब अगला नंबर किसका है ये सोच और विचार का प्रश्न है क्योंकि गौ माता , वन्देमातरम आदि वहां पहले से ही साम्प्रदायिक मामले मान लिए गए हैं ..

ज्ञात हो की पश्चिम बंगाल के हुगली जिले में रिसड़ा थाना अंतर्गत बांगूड़ पार्क इलाके में कुछ अज्ञात उपद्रवी तत्वों ने भारत माता की मूर्ति को क्षतिग्रस्त कर दिया जिसे लेकर इलाके के लोगों में भारी रोष व्याप्त है. बताते चलें कि कल आजादी की 70वीं वर्षगाँठ के अवसर पर रिसड़ा भाजपा के कार्यकर्ताओं ने भारत माता की पूजा की थी. 

आज सुबह जब रिसड़ा भाजपा के कार्यकर्ता भरतमाता की मूर्ति को स्थानांतरित करने के लिए पूजा स्थल पर पहुंचे तो वहां उन्होंने देखा कि भारत माता के केश कटे हुए हैं, मूर्ति को निर्वस्त्र कर दिया गया है. चेहरे पर कालिख पोतने के निशान भी देखे गए. पूजा स्थल पर एक बोतल में शराब के अवशेष मिले और बीडी का जला हुआ हिस्सा भी मिला. मामले की शिकायत रिसड़ा थाने में दर्ज करवाई गई है. पुलिस मामले की जांच में जुटी है. घटना को लेकर इलाके के लोगों में बहुत आक्रोश देखने को मिल रहा है.

भारत माता की मूर्ती थी वो , किसी मत या मज़हब को नहीं बल्कि सीधे सीधे भारत माता के उस स्वरूप को दर्शाती थी जिसमे वो क्रूर सोच और जहरीली विचारधारा के लोग भी रहते हैं जिन्होंने ऐसा कुकृत्य करने से पहले एक बार भी नहीं सोचा . उस भारत माता की मूर्ती को ना सिर्फ खंडित कर दिया गया बल्कि माता के वस्त्र को उतार कर उन्हें नंगा भी कर दिया गया ..

 ये सोच कर ही क्या उस शासिका को पीड़ा नहीं हुई ख़ास कर तब जब वो स्वय एक नारी है यद्द्पि उन्हें एक ही वर्ग के बारे में अक्सर चिंता करते देखा और सुना गया है जिसमे कम से कम भारत माता तो कहीं भी नहीं हैं .. बंगलादेशी और बंगलादेश के प्रति अथाह प्रेम रखने वाले बंगाल में ये कुकृत्य हुआ है जिस पर वामपंथ अर्थात तथाकथित बुद्धिजीवी कहे जाने वाले तमाम अन्य बर्फ जैसे खामोश हैं ..

Loading...


Loading...