मुग़लसराय का जो समर्थन कर रहे है वो बताएं की मुगलों से उनको क्या प्रेरणा मिलती है ? : राकेश सिन्हा


तक़रीबन 2 महीने पहले योगी आदित्यनाथ की सरकार ने उत्तर प्रदेश स्तिथ मुगलसराय स्टेशन का नाम बदलने का प्रस्ताव केंद्र के पास भेजा था 
रेलवे मंत्रालय, IB व गृह मंत्रालय ने उत्तर प्रदेश सरकार के इस प्रस्ताव को आज स्वीकार कर लिया 
और अब मुगलसराय नाम का स्टेशन हो जायेगा पंडित दीनदयाल उपाध्याय के नाम पर 

पर इसका जमकर विरोध हुआ 
राज्यसभा में सपा के सांसद नरेश अग्रवाल से लेकर कांग्रेस के नेताओं और साथ ही साथ वामपंथी नेताओं ने भी योगी सरकार विरोध किया और मुगलसराय नाम का समर्थन किया 

राष्ट्रवादी बुद्धिजीवी राकेश सिन्हा ने मुगलसराय के समर्थको से पूछा की मुगलसराय कितना पुराना नाम है, क्या इस से पहले इस स्थान का कुछ और नाम था 
और था तो मुगलों ने इस नाम को क्यों बदला 

राकेश सिन्हा ने कहा की मुगलसराय का समर्थन करने वाले  बताएं की आखिर मुगलो से उनको क्या प्रेरणा मिलती है, क्या वो मुगलों से हिन्दुओ पर अत्याचार करने की प्रेरणा लेते है 
मंदिर तोड़कर मस्जिद खड़ा करने की प्रेरणा लेते है 

राकेश सिन्हा ने कहा की मुगलों और अन्य हमलावरों  भारत के कई शहरों के नाम बदले है 
और धीरे धीरे उन सभी शहरों को उनका असली नाम वापस देने की जरुरत है और योगी सरकार के इस कदम की सराहना और समर्थन होना चाहिए