भारत में रक्षा मामलों में भ्रष्टाचार अब ख़त्म, सैन्य ताकत में भारत जल्द पछाड़ देगा चीन को : अमरीकी वैज्ञानिक


अमेरिका से भारत को लेकर आए एक बड़े बयान ने पाकिस्तान ही नहीं पुरे चीन की नींद उड़ा दी है,भारत को कम समझने की भूल ना करे चीन ये चीन को अमेरिका से साफ़ संदेश है !

भारत कभी किसी को दिखाता नहीं है कि उसके पास क्या है.भारत एक ऐसा देश है जो काम करने पर विस्वास करता है दिखाबे पर नहीं और यही वजह है आज भारत दुनिया में अपना परचम लहरा रहा है.अभी अमेरिका से आए एक बयान ने जहाँ पाकिस्तान को उसकी औकात दिखाने का काम किया तो दूसरी और अब आए बयान ने चीन की नींद उड़ा दी है.

अमेरिका के दो शीर्ष परमाणु विशेषज्ञों का कहना है कि भारत अपने परमाणु हथियारों के जखीरे को लगातार आधुनिक बनाता जा रहा है, और ये सब अब पाकिस्तान को देख कर नहीं चीन के हिसाब से हो रहा है परंपरागत रूप से पाकिस्तान को ध्यान में रखकर परमाणु नीति बनाने वाले इस देश का ध्यान अब चीन की तरफ ज्यादा है.

ये बयान अमेरिका से उस वक़्त में आया है जब एक तरफ अमेरिका और उत्तर कोरिया जो चीन का दोस्त है उसमें युद्ध जैसे हालत बने हुए हैं और दूसरी और भारत और चीन में भी जबरदस्त तनातनी चली हुई है.इस बड़े बयान के आने के बाद से ही चीनी मीडिया में इसकी चर्चा होना शुरू हो गया है.

आपकी जानकारी के लिए हम बता की  डिजिटल जर्नल के जुलाई-अगस्‍त अंक में छपे लेख का दावा है कि अब भारत एक मिसाइल विकसित कर रहा है जो दक्षिण भारत स्‍थित अपने बेस से समूचे चीन पर निशाना साध सकता है .

पहली बार ऐसा हुआ है कि भारत सरकार ने चीन को उसी की भाषा में जवाब दिया है.चीन जिस तरह से भारत के ऊपर दवाब बना रहा है उसका जवाब भारत की मोदी सरकार ने ऐसा दिया जिसकी वजह से पुरे चीन में खलबली मची हुई है.सिक्किम सीमा विवाद में भारत ने पीछे नहीं हटते हुए और ज्यादा सैनिक वहां तैनात कर डाले.

हंस एम क्रिस्‍टनसेन व रॉबर्ट एस नॉरिस ने ‘इंडियन न्‍यूक्‍लियर फोर्सेज 2017’ नामक आलेख में लिखा है कि 150-200 परमाणु हथियार के लिए भारत ने काफी प्‍लूटोनियम उत्‍पन्‍न करने की योजना बनायी थी आगे लिखते हुए उन्होंने कहा है कि भारत का ध्‍यान पाकिस्‍तान में रहता आया है लेकिन अब परमाणु हथियारों का आधुनिकीकरण संकेत देता है कि यह चीन के साथ भविष्‍य के कूटनीतिक संबंधों पर दबाव बना रहा है।‘