बलात्कार, ऑक्सीजन की चोरी, बड़े बड़े रैकेट, मीडिया का हीरो काफ़िल है मासूम लोगों का हत्यारा !


सेकुलरिज्म के कारण ये मीडिया आये दिन किसी न किसी को हीरो बनाती रहती है
मीडिया के गुर्गों ने बहुत कोशिश की, काफ़िल खान को हीरो बनाने की



काफ़िल खान के बारे में कुछ जानकारियां

* ये शख्स एक नर्स के बलात्कार के केस में 1 साल तक जेल में रह चुका है, उसे धमकी भी दी 
इस केस में जमानत पर है

* ये शख्स अखिलेश यादव द्वारा उत्तर प्रदेश में DGP बनाये गए जावेद अहमद का रिश्तेदार है

* ये शख्स कई बार अलग अलग केस में गिरफ्तार हुआ है
2009 में दिल्ली पुलिस ने काफ़िल खान को
जनकपुरी के केंद्रीय विद्यालय से गिरफ्तार किया था, ये पैसा लेकर दूसरे शख्स की जगह एग्जाम में बैठा था
ये एग्जाम मेडिकल कौंसिल ऑफ़ इंडिया का था



* 2009 में इसे तीस हजारी अदालत से जमानत मिली
उस समय देश का स्वास्थ्य मंत्री था गुलाम नबी आजाद, गुलाम नबी आजाद ने इस जालसाज को बचाया और इसके खिलाफ केस को कमजोर करवाया जिस से इसे जमानत मिली

* काफ़िल खान का भाई है फ़ाज़िल अहमद
ये दोनों भाई डॉक्टर है और पैसा लेकर PMT यानि प्री मेडिकल टेस्ट पास करवाने का रैकेट चला रहे थे, अखिलेश यादव का इनको पूरा संरक्षण था

* BRD अस्पताल के ऑक्सीजन सिलिंडर और अन्य उपकरणों का इस्तेमाल काफ़िल खान अपने निजी अस्पताल से चला रहा था

योगी सरकार ने इस भ्रष्ट जालसाज और बलात्कारी को अब बर्खास्त किया है और इसके खिलाफ जांच चल रही है
पर बेशर्मी के साथ मीडिया ने इसे हीरो घोषित कर दिया 



मीडिया ने न केवल जबरन एक बलात्कारी, और रैकेटबाज को हीरो बताया बल्कि अपने झूठ को मीडिया ने स्पांसर भी किया, इस मीडिया के पास करोडो रुपए है
जिसका इस्तेमाल ये एक बलात्कारी रैकेटबाज को हीरो बनाने में खर्च कर रही है