जनरल परशिंग ने आतंक का ऐसा इलाज किया था की 35 साल तक आतंकी हमला नहीं हुआ था !


अमरीका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप इस्लामिक आतंकवाद के खात्मे को लेकर काफी सख्त है। आईएसआईएस जैसे संगठन जो इस्लामिल्क जिहाद के नाम पर आतंकवाद फैलाले वालों के खात्मे का प्रण ले रखा है। बढ़ रहे आतंकवाद से अमेरिका पर आये खतरे को देखते हुए ट्रंप ने अपनी चिंता व्यक्त की है। 

ट्रंप अमरीकी सेना के पूर्व जनरल जॉन जे परशिंग के पद चिन्हों पर चलना चाहते है। अमरीका के लोगों में इस्लामिक स्टेट को लेकर काफी डर देखने को मिल रहा है।

डोनाल्ड ट्रंप ने स्पेन के बार्सिलोना में हुए आतंकवादी हमले पर अपना गुस्सा जाहिर किया है। इस्लामिक स्टेट ने इस बार अपना शिकार स्पेन को बनाया और वहां बार्सिलोना में आतंकी हमला कर कम से कम 13 लोगों की जाने ली और इस हमले में 100 घायल भी हो गए। लोगों की ज़िन्दगी की अहमियत आईएसआईएस जैसे आतंकी संगठन नहीं जानते है। इतना ही नहीं इस हमले की जिम्मेदारी भी इस्लामिक स्टेट ने ली है।

अपनी हैवानियत का परिचय देते हुए एक वैन चालक ने पैदल चल रहे लोगों की भीड़ पर कल दोपहर गाड़ी चढ़ा दी। आतंकवादियों के इन हमलो से नाराज ट्रंप ने कल एक ट्वीट कर कहा कि अमरीका, स्पेन के बार्सिलोना में हुए आतंकवादी हमले की निंदा करता है और मदद के लिए जो भी जरुरी होगा वह करेगा।

हिम्मत रखिए, हम आपको प्यार करते हैं। इसके साथ ही ट्रंप ने अमरीकी सेना के पूर्व जनरल जॉन जे परशिंग के बयानों को याद किया।

उन्होंने बताया कि जनरल जॉन परशिंग ने इस्लामिक हमलों से निबटने के लिए सुअर के खून में गोलियों को डुबाकर उनका प्रयोग करने की बात की थी। जनरल जॉन जे परशिंग के एक बयान से प्रभावित हो ट्रंप ने ट्वीट करते हुए लिखा था कि "अमरीका के जनरल परशिंग ने जब आतंकियों को पकड़ा तो उनके साथ क्या किया था? इसके बाद 35 वर्षों तक अमरीका में किसी भी तरह का चरमपंथी इस्लामिक आतंक नहीं था", इतना ही नहीं इस बयान की प्रसंशा ट्रंप ने राष्ट्रपति के चुनाव के दौरान भी किया था।

जनरल परशिंग की सेना ने 50 इस्लामिक आतंकियों को पकड़ा था 
जनरल परशिंग ने उसमे से 49 आतंकियों को सुवर के खून में डूबी गोली से उड़ाया था, और 1 आतंकी को छोड़ दिया था, और उस से कहा था की "जाकर अपने साथियों को बताओ की यहाँ क्या हुआ था" 

उसके बाद 35 साल तक आतंकी हमला नहीं हुआ था 

ऐसे में सवला उठता है कि क्या भारत को भी बढ़ते और प्रगाढ़ होते इस्लामिक जिहादी कट्टर आतंकवाद के खात्मे के लिए यही रवैया अपनाना चाहिए ?
loading...
Loading...



Loading...