सोशल मीडिया के ज़माने में 1970 की राजनीती कर रहे राहुल गाँधी, खुद ही तुड़वाया सीसा !



कांग्रेस एक पुरानी पार्टी है 
बहुत दिनों तक इसने देश के लोगों को मुर्ख बनाकर राजनीती की है, सत्ता का सुख भोगा है 
आज जब सोशल मीडिया का जमाना है, कांग्रेस अपनी पुरानी घिसी पिटी राजनीती के स्टाइल से लोगों को मुर्ख बनाने का प्रयास कर रही है 

3-4 हज़ार रुपए का सीसा तोड़ कांग्रेस सोच रही है की वो राजनीती कर लेगी 
मीडिया की सुर्खिया बंटोर लेगी और लोगों को मुर्ख बना सकेगी 

हुआ ये की कांग्रेस के नेता राहुल गाँधी आज गुजरात के बनासकांठा में घूम रहे थे, फिर मीडिया ने ये खबर चलाया 

इसके बाद कांग्रेस के नेताओं ने लाइन लगाकर इसे बीजेपी की साजिश बता दिया 
कांग्रेस के राष्ट्रीय प्रवक्ता सुरजेवाला ने कहा की बीजेपी के गुंडों ने राहुल गाँधी पर हमला कर दिया, इसके साथ साथ राहुल गाँधी ने भी कहा की, मुझपर बीजेपी ने हमला कर दिया 
पर मैं हमलों से नहीं डरने वाला 

अब हम आपको दिखाते है कांग्रेस की पूरी नौटंकी की पूरी सच्चाई 
हुआ ये की राहुल गाँधी को सांसद और देश के एक चर्चित नेता होने के कारण सुरक्षा मिली हुई है, गुजरात आने पर भी राज्य सरकार को राहुल गाँधी की सुरक्षा के अनुरूप सुविधाएं देनी पड़ती है 

राहुल गाँधी को गुजरात की राज्य सरकार ने गुजरात आने पर बुलेट प्रूफ गाडी देने के लिए कहा था 
पर राहुल गाँधी ने बुलेट प्रूफ गाड़ी नहीं ली और एक कार्यकर्त्ता की गाड़ी को इस्तेमाल किया 

क्यूंकि उनका पहले से ही प्लान था की गाड़ी का सीसा तुड़वा देना है और राजनीती करनी है, अभी आने वाले दिनों में यहाँ चुनाव भी है, पहले उस गाड़ी को खाली किया गया और 
पत्थर से मारकर उसका सीसा तोड़ दिया गया 

गाड़ी का सीसा टुटा, राहुल गाँधी जिस गाड़ी में चलते है उसकी सुरक्षा की जाती है, पर किसी ने हमलावर को नहीं देखा, क्यूंकि हमलावर तो खुद कांग्रेस का ही कार्यकर्त्ता था,  कांग्रेस ने कह दिया की 
राहुल गाँधी पर बीजेपी ने हमला कर दिया 

3-4 हज़ार रुपए का 1 सीसा तोड़ राहुल गाँधी को खुद मीडिया की सुर्खियां मिल गयी, 3-4 रुपए में इतना कुछ हो गया, ये तो फायदे का सौदा है जी 
पर राहुल गाँधी और कांग्रेस को समझना चाहिए की ये सोशल मीडिया का जमाना है 
यहाँ उनकी सारी पोल खुल जानी है



* राहुल गाँधी ने जानबूझकर सरकारी बुलेट प्रूफ गाडी नहीं ली 

* गाड़ी खाली तब 1 पत्थर फेंककर इसका सीसा तोडा गया, गाड़ी में कोई होता तो उसका हाल बुरा हो जाता क्यूंकि टूटे सीसे उसका खून निकाल देते, पर किसी  खरोंच तक नहीं 

* राहुल गाँधी को कोंग्रेसी नेता और कार्यकर्त्ता घेरे हुए रहते है, राहुल गाँधी कहीं भी अकेले नहीं रहते पर किसी ने भी हमलावर को नहीं देखा, ताकि उसका स्केच ही बनवा सके 

* इतनी सुरक्षा में रहने वाले राहुल गाँधी और उनके लोग 1 हमलावर को नहीं पकड़ सके 

लगता है कांग्रेस इस देश की जनता को आज भी 1970 के ज़माने की जनता समझ रही है 
की कांग्रेस जो पट्टी पढ़ाएगी लोग उसे फ़ौरन मान जायेंगे