1947 : पाक हमले के बाद भारतीय सेना के मुस्लिम सैनिको ने सो रहे गोरखा सैनिको का क़त्ल किया था !



ये बात 100% सच है की भारत का असली इतिहास आज भी अधिकतर भारतीय नहीं जानते 
क्यूंकि इसे मक्कारी के साथ छुपाया गया है 
गलत इतिहास परोसा गया है, और ये सबकुछ साजिश के तहत किया जाता है 

हम आपको कुछ ट्वीट्स दिखाते है 
जिन लोगों ने ये ट्वीट्स किये है, इनके ट्वीट्स को नजरअंदाज नहीं किया जा सकता
सबसे पहले आप ये ट्वीट्स खुद देखिये 


शंखनाद और TRUE INDOLOGY दोनों ने बताया है की 15  अक्टूबर जब पाकिस्तान की सेना ने कश्मीर पर कब्जे के मकसद से भारत पर हमला किया था 
तब भारत के मुस्लिम सैनिको ने अपनी ही बटालियन के गोरखा सैनिको को जो सो रहे था उनका क़त्ल कर दिया था 

गोरखा सैनिक और उनके अफसर सो रहे थे 
गोरखा रघुवीर सिंह जो की कप्तान थे उनका भी क़त्ल कर दिया गया, कपनी कमांडर प्रेम सिंह का भी क़त्ल कर दिया गया, अधिकतर गोरखा सैनिको का क़त्ल कर दिया गया, 2 गोरखा अफसर और 30 अन्य सैनिक किसी तरह इस नरसंहार से निकलने से सफल रहे थे 
वहीँ इस नरसंहार के बाद मेजर नसरुल्लाह खान पाकिस्तान से जा मिला 

बता दें की ये जानकारियां हम आपको ऊपर किये हुए ट्वीट्स के हवाले से दे रहे है, इनकी पुष्टि हम नहीं कर रहे, पर ये जानकारियां काफी गंभीर है, सेना के रिकॉर्ड, सरकार के रिकार्ड्स में होंगी 
और हम इस पोस्ट के जरिये सरकार से मांग करते है की वो इसकी पुष्टि करे 

Image result for indian army Zahoor Ahmad
सेना के हथियार चुराकर हिज्बुल में शामिल हुआ ज़हूर अहमद 

जानकारी के लिए बता दें की इसी कश्मीर में हाल ही में एक मुस्लिम सैनिक हथियारों समेत हिज्बुल में जा मिला है, इसके अलावा एक पुलिस कर्मी भी हिज्बुल में शामिल हुआ है 

बता दें की 1999, 1971, 1965 के अलावा 1947-48 में भी भारत और पाकिस्तान का युद्ध हुआ था 
अक्टूबर 1947 में पाकिस्तान ने कश्मीर पर कब्जे के लिए कश्मीर पर हमला किया था 
ये युद्ध 1 साल से भी ज्यादा चला था, पाकिस्तान अधिकृति कश्मीर भी इसी युद्ध के दौरान पाकिस्तान के कब्जे में आया था 

loading...
Loading...



Loading...