पुरे भारत को लूट रहे है कश्मीर के जिहादी आतंकी, 1% से कम जनसँख्या, पर देश का 10% पैसा JK को !



पुरे भारत को लूट रहे है कश्मीर के जिहादी आतंकी, 1% से कम जनसँख्या, पर देश का 10% पैसा JK को ! 
NOTE : दैनिक भारत की विचारधारा राष्ट्रवादी है इसलिए हम ऐसा लिख रहे है, ऐसा बिलकुल भी नहीं है 

इस खबर का सोर्स "द हिन्दू" नामक कुख्यात वामपंथी अख़बार है, नीचे लिंक में सोर्स भी है 

आपकी जानकारी के लिए बता दें की जम्मू कश्मीर की कुल जनसँख्या है 
1 करोड़ 25 लाख, ये भारत के कुल जनसँख्या का 1% से भी थोड़ा कम ही है 

पर आप जानकार चौंक जायेंगे की भारत सरकार का 10% पैसा जम्मू कश्मीर को जा रहा है 
2000 से लेकर 2016 तक जम्मू कश्मीर को भारत सरकार से 1 लाख 14 हज़ार करोड़ रुपए का अनुदान मिला है 

यानि हर नागरिक पर 91 हज़ार रुपए से भी अधिक 
वहीँ उत्तर प्रदेश जो की देश का सबसे बड़ा राज्य है और देश की इकॉनमी में अहम् योगदान देता है 
उसे केंद्र सरकार के कुल फण्ड का केवल 8% हिस्सा मिला है 
उत्तर प्रदेश के प्रत्येक व्यक्ति पर 4000 रुपए 

उत्तर प्रदेश की जनसँख्या देश में 14% है पर उसे कुल फण्ड मिला है 8% 
जम्मू कश्मीर की जनसख्या है 1% और उसे मिला है 10% फण्ड 

देश के अन्य हिस्सों के लोगों पर 4000 वहीँ जम्मू कश्मीर के प्रत्येक व्यक्ति पर 91000 
ये एक लूट आतंकवाद है

जिहादी आतंकी पुरे भारत को लूट रहे है, भारत की इकॉनमी में योगदान न के बराबर लेकिन भारत के पैसे में 10% की लूट, जानबूझकर जिहादियों ने धंधा बनाया हुआ है, आतंकवाद का धंधा, आतंकवाद से लड़ने के नाम पर ये दिन भर देश और मीडिया में छाए रहते है, और भारत का भारी धन चूसते रहते है 

और इसी कारण जब 35(A) और धारा 370 की बात आती है, तो मेहबूबा मुफ़्ती जैसे लोग चींख पड़ते है 
क्यूंकि कश्मीर समस्या के नाम पर ये लाखों करोड़ रुपए लूट रहे है 

कितना शर्मनाक है की उत्तर प्रदेश बिहार राजस्थान मध्य प्रदेश महाराष्ट्र गुजरात हरियाणा के लोगों पर 4000 रुपए और जम्मू कश्मीर के हर व्यक्ति पर 91000 रुपए, ये कत्लेआम के बराबर 
है खुलेआम लूट मचा रहे है जिहादी तत्व 

हमारे टैक्स का लूटकर भी मचा रहे है आतंक, भारत के खिलाफ नारे, जिहाद, और हम इस लूट का विरोध तक नहीं कर रहे, इन लुटेरों के लिए हम GST और इनकम टैक्स भर रहे है ? 

नोट : ऐसा भी नहीं है की ये सारा पैसा पुरे जम्मू कश्मीर पर खर्च हो रहा है, जम्मू और लद्दाख पर बिलकुल नहीं ये सारा पैसा कश्मीर में ही खर्च किया जा रहा है, यानि जिहादी कट्टरपंथी आतंकवाद और समस्या का धंधा बनाकर हम सबको लूट रहे है