जिस जबान से पाकिस्तान जिंदाबाद निकलता है, उस जबान से भारत माता की जय क्यों नहीं !


आज मीडिया और सेक्युलर तत्व बहुत गुस्से में है, हुआ ये की 

बजरंग दल वालो ने किसी मौलवी को इसलिए थपडा दिया..की मुल्ले जी ने भारत माता की जय बोलने से मना कर दिया था....इस के पहले भी ऐसा कई बार हो चुका है कि ये नामुराद बजरंगी और संघी..मीडिया के मोमिन भाइयो को इसलिए कूट चुके है कि ..

मीडिया के मोमिन भाइयो ने भारत माता की जय बोलने से मना कर दिया था...इस देश की गंगा जमुना तहजीब की इन संघी बजरँगीयो ने ऐसे ही वाट लगा रखी है।

पर कभी कभी मैं सोचता हूँ की मेरे मोमिन भाइयो की जिस जुबान से "पाकिस्तान जिंदाबाद" निकल सकता है...फिलिस्तीन तुम हमारे दिल में रहते हो निकल सकता है.....उनके मुँह से भारत माता की जय क्यूँ नही निकल सकता...??

मीडिया वाले भी अपने मोमिन भाइयों से क्यों नहीं पूछते की तुम्हारे जबान से पाकिस्तान जिंदाबाद निकल सकता है तो भारत माता की जय क्यों नहीं ! 

जिन दिलो में हजारो किलोमीटर दूर फिलिस्तीनियों के लिए दर्द उठता है उनके दिल में काश्मीरी पंडितों के लिए दर्द क्यों नही उठता???
ये मीडिया इन कट्टरपंथियों को बढ़ावा देती है, और धीरे धीरे ये देश गृहयुद्ध और फिर एक बार 1947 की ओर ही जा रहा है 

ये मीडिया क्या है, बहुत पैसा बनाकर बैठे हुए है इनके मालिक वो तो फुर से सुरक्षित इलाकों में भाग जायेंगे, पिसेगा आम भारतीय 
याद रखें 1947 में 30 लाख से अधिक का क़त्ल हुआ था, पर गाँधी-नेहरू-इंदिरा या कांग्रेस के नेताओं को 1 भी खरोंच नहीं आयी थी