अरे फर्जी मीडिया : तुम्हारा चिकन तो असल में गौमांस निकला, अब अपने दर्शको को कब बताओगे सच्चाई ?



पिछले दिनों मीडिया ने अपने अजेंडे के तहत खबर चलाई जो आपको भी याद होगा 

मीडिया ने बताया की गौरक्षको ने सलीम नाम के शख्स को नागपुर में खूब मारा 
सलीम अपने साथ चिकन (मुर्गे का मांस) ले जा रहा था पर गौरक्षको ने इसे गौमाँस समझकर सलीम को पीटा 

बाद में मीडिया ने ये भी बताया की ये सलीम बीजेपी का ही कार्यकर्त्ता है 
  खैर मीडिया अपने अजेंडे के तहत बता रही थी की 

"हिन्दू इतने बड़े आतंकवादी हो चूक है की चिकन ले जाने पर भी मार रहे है"

पर मीडिया अब नागपुर वाली खबर पर चुप है, क्यूंकि पुलिस ने उस मांस को जांच के लिए फोरेंसिक लैब में भेजा था, और लैब ने स्पष्ट कर दिया की जो मांस सलीम के पास था वो गाय का मांस था 

महाराष्ट्र में गौमांस बैन है, ये अपराध है 
मीडिया का मासूम सलीम एक अपराधी है, और सलीम ने जानबूझकर तनाव फैलाया 
वो गौमांस लेकर जाता ही नहीं तो गौरक्षक उसे पीटते ही क्यों 

मुस्लिम अपराधी जानबूझकर तनाव फैला रहे है, गौमांस से हिन्दुओ को भड़का रहे है 
जब से खुलासा हुआ है की सलीम के पास गौमांस ही था, तब से वही मीडिया और उसके बड़े बड़े पत्रकार चुप है 
ये सोचके की देश भूल जायेगा उनके द्वारा फैलाई गयी इस खबर को