भारत को मिला किलर ड्रोन, पाक में हड़कंप, बढ़ाई गयी हाफिज सईद समेत तमाम आतंकियों की सुरक्षा


भारत को इजरायल ने वह दिया जिसकी भारत को उम्मीद भी नहीं थी 

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी तीन दिन के इजराइल दौरे पर हैं. इस दौरान भारत और इजराइल के बीच 'हेरॉन टीपी ड्रोन' को लेकर अहम समझौता किया गया है. इसके तहत इजराइल भारत को 10 हेरॉन टीपी ड्रोन देगा. इस ड्रोन की मारक क्षमता देखते हुए इसे भारत के लिए बहुत ही अहम सौदा बताया जा रहा है. इसे किलर ड्रोन भी कहा जाता है.

Image result for israel attack drone

हेरॉन टीपी ड्रोन से पीओके के टेरर कैंप के साथ-साथ आतंकवादी सलाहुद्दीन, हाफिज मोहम्मद सईद, मौलाना मसूद अजहर और दाऊद इब्राहिम जैसे आतंकवादियों पर भारत से ही निशाना लगाया सकता है. रिपोर्ट्स के मुताबिक, इजराइल के साथ भारत के सैन्य समझौते से पाकिस्तान में खलबली है.

पाकिस्तान ने तमाम बड़े आतंकियों जिनमे सईद सलाहुद्दीन, हाफिज सईद, मसूद अज़हर और दाऊद इब्राहिम की सुरक्षा बढ़ा देने के निर्देश दिए है 
अब ये तमाम आतंकी पाकिस्तानी सेना की स्पेशल कमांडो की निगरानी में रहेंगे 

Image result for israel attack drone

दोगुनी होगी ताकत:-'हेरॉन टीपी ड्रोन' के आने से पीओके में सर्जिकल स्‍ट्राइक करने की ताकत में दोगुना इजाफा होगा. हेरॉन टीपी-सशस्‍त्र ड्रोन को दुश्‍मन के अड्डों का पता लगाने, दुश्‍मनों को ट्रैक करने और जमीन से हवा में फायर की गई मिसाइल को मार गिराने जैसे कामों में महारत हासिल है. इस ड्रोन के मिल जाने से आतंकियों के ठिकानों का खात्मा करने में भी मदद मिलेगी.

हेरॉन टीपी ड्रोन की खासियत

- बुधवार को भारत के साथ इजराइल से 10 हेरॉन-टीपी ड्रोन पर अहम डील होगी.
- हेरॉन-टीपी लड़ाकू ड्रोन हवा से जमीन पर लक्ष्य तबाह करने वाली मिसाइलों से लैस होंगे.
- हेरॉन-टीपी लड़ाकू ड्रोन पूरी तरह ऑटोमेटिक हैं.

- हेरॉन टीपी ड्रोन एक टन से ज्यादा भारी विस्फोटक लेकर उड़ान भर सकता है.
- हेरॉन-टीपी ड्रोन करीब 30 घंटे तक लगातार उड़ान भर सकता है
- ये 40 हजार फीट तक की ऊंचाई से जमीन पर लक्ष्य भेद सकता है.

- ये ड्रोन 370 किलोमीटर प्रतिघंटा की रफ्तार से उड़ते हुए हमला कर सकता है.
- 7400 किलोमीटर की रेंज में अचूक निशाना लगा सकता है.
- कंट्रोल रूम में बैठकर हेरॉन-टीपी ड्रोन को ऑपरेट किया जा सकता है.

- किसी भी मौसम में आसानी से मिशन को अंजाम दे सकता है.
- हेरॉन-टीपी ड्रोन से बड़े पैमाने पर खुफ़िया निगरानी की जा सकती है.