हिन्दू महिलाओं को गाँधी ने दी सलाह, "बलात्कार होने वाला हो तो सांस रोककर मर जाओ"



अक्टूबर से लेकर नवंबर 1946 
नोआखली बंगाल में हिन्दुओ के खिलाफ दंगे हुए, इन दंगों में 5000 तक हिन्दुओ को मार डाला गया, ये तो आधिकारिक अंग्रेजी आँखड़े है 
इसके अलावा हज़ारों हिन्दू महिलाओं का बलात्कार कर क़त्ल किया गया 

इन दंगों को मुस्लिम संगठनो ने अंजाम दिया था 
ये दंगे नोआखली से हिन्दुओ को ख़त्म करने, हिन्दुओ को भगाने के लिए किये गए थे 

हिन्दुओ को घेरकर इन दंगों में निशाना बनाया जाता था, उस समय भारत का बंटवारा नहीं हुआ था 
मोहनदास गाँधी नोआखली में गया था, मोहनदास गाँधी के साथ 500 के करीब समर्थक, लठैत, बॉडी गार्ड्स थे 

मोहनदास गाँधी जहाँ भी जाता था 
उसके साथ 500 बॉडी गार्ड चला करते थे, मोहनदास गाँधी सुरक्षित व्यक्ति था 
मोहनदास गाँधी से नोआखली की हिन्दू महिलाएं मिलने के लिए आती थी, और अत्याचारों के बारे में मोहनदास गाँधी से मदद मांगती थी 

तब मोहनदास गाँधी महिलाओं को क्या कहता था, देखें त्रिपुरा के राज्यपाल तथागत रॉय ने जो स्वयं बंगाली मूल के हैं, उन्होंने क्या बताया है 


Image result for noakhali riots


महिलाएं बलात्कार से बचाने की गुहार लेकर मोहनदास गाँधी के पास आती थी 
तो मोहनदास गाँधी उन्हें सलाह देता था की, जब बलात्कार होने वाला हो उस से पहले सांस रोककर आत्महत्या कर लो 

मोहनदास गाँधी ने हिन्दुओ को बचाने के लिए कुछ भी नहीं किया 
और हिन्दुओ को कहा की बलात्कार होने वाला हो तो सांस रोककर मर जाओ 

इस प्रकार का शख्स इस देश का कथित राष्ट्रपिता कहलाता है, जो अपने आप में शर्मनाक और निंदनीय है