हे जाहिल बुद्धिजीवियों, अरबों की औकात नहीं की वो तेल न बेचे, वरना वो खुद भूखे मर जायेंगे !



नरेंद्र मोदी जबसे इजराइल गए है 
पाकिस्तान और चीन के अलावा भारत के बुद्धिजीवी, सेक्युलर वामपंथी और जिहादी 
सभी बौखलाए हुए है 

टीवी डिबेट में बैठकर बहुत से बुद्धिजीवी और जिहादी तत्व एक बात बड़ी प्रमुखता से कहते है 
जिहादियों का कहना है की, "भारत इजराइल से दोस्ती न करे, भारत तय कर ले 
उसे 1 इजराइल चाहिए या अरब देश, इजराइल से दोस्ती की तो अरब देश नाराज हो जायेंगे, और भारत को तेल नहीं देंगे, और भारत बर्बाद हो जायेगा"

इन बुद्धिजीवियों और जिहादियों से आज हम कुछ लाइन में एक महत्व्यपूर्ण बात कहना चाहेंगे 
जो इनको शायद पता नहीं 

दुनिया में सबसे ज्यादा तेल अरब देशों के पास नहीं बल्कि अमरीका और दक्षिणी अमरीकी देश वेनेजुएला के पास है, अगर अरब के देश भारत को मान लीजिये तेल नहीं भी दे 
तो भारत को ज्यादा फर्क नहीं पड़ेगा, वेनेजुएला से तेल आ जायेगा 

वेनेजुएला के पास सऊदी अरब, ईरान इत्यादि से अधिक तेल है, दूसरी चीज ये की हे जाहिल बुद्धिजीवियों और जिहादियों, अरब देशों की औकात ही नहीं की वो भारत जैसे  बड़े देश को तेल न दे 
वो भारत को मुफ्त में तेल नहीं देते, बल्कि भारत उनको पैसा देता है, उसके बदले तेल देते है 

अरब के कबीलाई जिहादी जाहिलों को तेल बेचने के अलावा कोई काम नहीं आता 
न वो सॉफ्टवेयर बेच सकते है, न हथियार, न कोई तकनीक 
सिर्फ तेल बेचकर रोटी खाने वाली कौम है अरबी कौम 

तेल नहीं बेचेंगे तो अल्लाह भी नहीं बचाएगा, कपडे तक नहीं खरीद पाएंगे 
फिर से 7वी सदी में पहुँच जायेंगे, सिर्फ तेल बेचकर रोटी खाते है अरबी देश, भारत ने पाकिस्तान से भी कई बार युद्ध किया है, कितने  अरबी देशों ने औकात दिखाई है तेल की कटौती करने की 

हे जाहिल बुद्धिजीवियों थोड़ा तर्कपूर्ण बाते किया करो
"अरबी देश भारत से नाराज हो जायेंगे, अबे आजतक इजराइल से नाराज होकर उसका कुछ उखाड़ नहीं पाए अरबी देश, दर्जनों बार इजराइल ने अरबो को रेला है 
इजराइल का तिनका भी नहीं उखाड़ पाए, भारत को बर्बाद करेंगे, मुर्ख जाहिल बुद्धिजीवी जिहादियों !!