देशद्रोही मीरवाइज़ की सुरक्षा पुलिस ने ली वापस, कहा "देशद्रोहियों को सुरक्षा नहीं देंगे"


भारत की हार पर पाकिस्तान के नाम पर बम फोड़ने वाले देशद्रोही मीरवाइज उमर फारूख की सुरक्षा कम कर दी गई है। इससे बाकी हुर्रियत नेता भी घबराए हुए हैं।

जानकारी के अनुसार अधिकारियों ने देशद्रोही मीरवाइज उमर फारूख की सुरक्षा व्यवस्था आधी कर दी है। यह कदम नौहट्टा इलाके में जामा मस्जिद के निकट 23 जून को पुलिस उपाधीक्षक अयूब पंडित की पीट-पीट कर की गई हत्या के बाद उठाया गया है। 

जामा मस्जिद पर अलगाववादी नेता शुक्रवार और अन्य महत्वपूर्ण धार्मिक दिनों में लोगों को संबोधित करते हैं।

पुलिस के सुरक्षा शाखा के सूत्रों ने बताया कि देशद्रोही मीरवाइज को उपलब्ध कराए गए सुरक्षाकर्मियों की संख्या में कमी कर दी गई है। यह संख्या 16 से घटा कर आठ कर दी गई है। 

उन्होंने बताया कि DSP के मारे जाने के छह दिनों के बाद मीरवाइज की सुरक्षा कम करने के बारे में कार्यवाही 29 जून को शुरू कर दी गई थी। 

सूत्रों ने बताया कि मीरवाइज के साथ तैनात रहने वाले पुलिस उपाधीक्षक रैंक के एक निजी सुरक्षा अधिकारी को 29 जून को हटा लिया गया था और उसके स्थान पर किसी को तैनात नहीं किया गया।  

पुलिस का कहना है की जल्द ही मीरवाइज़ की पूरी सुरक्षा हटा दी जाएगी 
क्यूंकि उसे किसी से खतरा नहीं, बल्कि दूसरों के लिए वो खुद ही एक खतरा है