कानून की धज्जियां उड़ाकर जेल में सड़ाया जा रहा है हिन्दू नाबालिग, चुप है कानून चुप है सभी !



कहने को तो भारत में कानून का राज चल रहा है पर ऐसा क्या असल में है 
हमे तो नहीं लगता क्यूंकि हिन्दुओ के साथ इस सेक्युलर संविधान और कानून में बहुत बड़े पैमाने पर भेदभाव किया जा रहा है 

हिन्दू समाज भी चुप ही रहता है और इसी कारण एक हिन्दू बच्चे को गैर क़ानूनी रूप से जेल में सड़ाया जा रहा है, आपको याद होगा पिछले दिनों पश्चिम बंगाल में हिन्दू विरोधी दंगे हुए थे 
एक नाबालिग हिन्दू बच्चे ने फेसबुक पर काबा को शिव मंदिर बताते हुए एक पोस्ट कर दिया था 

उसी के बाद बंगाल के उत्तरी 24 परगना में मुस्लिमो ने हिन्दू विरोधी दंगे किये 
अबतक 1 भी दंगाई गिरफ्तार तक नहीं किया गया 

पर नाबालिग हिन्दू बच्चा 1 महीने से जेल में सड़ाया जा रहा है, उसको प्रताड़ित किया जा रहा है 
भारत के कानून के मुताबिक किसी भी नाबालिग को जेल नहीं बल्कि बाल सुधार गृह में रखा जाता है, यहाँ तक की दुर्दांत आतंकियों बलात्कारियों हत्यारों को भी बाल सुधार गृह में ही रखा जाता है 

निर्भया के कातिल मोहम्मद अफरोज को भी बाल सुधार गृह में ही रखा गया था क्यूंकि उसकी उम्र 18 से कम थी, पर बंगाल में हिन्दू नाबालिग को बाल सुधार गृह में नहीं बल्कि जेल में आतंकियों, हत्यारों और बलात्कारियों के साथ जेल में सड़ाया जा रहा है 

और देश की तमाम अदालतें, कानून, बुद्धिजीवी सभी चुप है 
बंगाल में कानून का जिम्मा ममाता बनर्जी की सरकार का है, ममाता बनर्जी खुलेआम कानून की धज्जियाँ उड़ा रही है, नाबालिग जेल में सड़ाया जा रहा है और किसी भी अदालत किसी भी कानून का मुँह नहीं खुल रहा है