मसला गंभीर : सेना और पुलिस में शामिल कश्मीरी मुस्लिम, आतंकियों के संपर्क में है


जम्मू-कश्मीर पुलिस की सिक्योरिटी विंग का सिपाही तौसीफ अहमद अमरनाथ हमले के आरोपों में पकड़ा गया दक्षिणी कश्मीर का रहने वाला है तौसीफ अहमद और पिछले कुछ सालों से आंतकवादियों के साथ मिला हुआ था ।

कुछ लोग जम्मू कश्मीर के युवाओं के पुलिस या सेना में भर्ती होने पर खुश हो रहे थे और कह रहे थे की कश्मीर जाग चूका है, कश्मीरियत जाग चुकी है ।
ये कोई पहला मामला नहीं है 

आतंकियों के कितने एनकाउंटर जम्मू कश्मीर की पुलिस ने किये है, ये भी आप पता कर लीजिये 
कितने आतंकियों को जम्मू कश्मीर पुलिस गिरफ्तार करती है ये भी आप पता कर लीजिये 

जानकारी के लिए बता दें की पिछले दिनों जम्मू कश्मीर पुलिस न एक सिपाही और भारतीय सेना (आर्मी) का एक कश्मीरी मुस्लिम जवान दोनों हथियार चुराकर फरार हुए है, और हिज्बुल में शामिल हो चुके है 

बड़े पैमाने पर कश्मीरी मुस्लिम इन दिनों सेना और अन्य सुरक्षा एजेंसियों में शामिल भी हो रहे है 
स्तिथि गंभीर है, और सेकुलरिज्म के चक्कर में देश की सुरक्षा से खिलवाड़ नहीं किया जा सकता, सेना और सरकार को सतर्क रहने की जरुरत है