इतनी बेशर्मी से झूठ बोलेगा गाँधी का पोता, किसी ने नहीं सोचा था, एक साथ बोले कई कई झूठ !




मोहनदास गाँधी के पोते और कांग्रेस के उपराष्ट्रपति उमीदवार गोपाल कृष्ण गाँधी ने आज नामांकन भर दिया 
और नामांकन भरते हुए गाँधी के इस पोते ने कई कई झूठ एक साथ बोल दिए 

बता दें की गोपाल कृष्ण गाँधी ने आतंकवादी याकूब मेमन के लिए दया याचिका राष्ट्रपति के पास लगायी थी 
साथ ही साथ गोपाल कृष्ण गाँधी दुर्दांत दरिंदे औरंगजेब का भी भक्त रहा है 
औरंगजेब रोड का नाम जब अब्दुल कलाम रोड किया जा रहा था तब गोपाल कृष्ण गाँधी ने उसका विरोध किया था 

आज नामांकन भरते हुए गोपाल कृष्ण गाँधी ने ऐसे ऐसे झूठ बोले जिसका कोई हिसाब नहीं है 


गोपाल कृष्ण गाँधी ने कहा की हां मैंने याकूब मेमन के लिए दया याचिका भेजी थी क्यूंकि मैं मौत की सजा के खिलाफ हूँ, ये मैंने गाँधी और आंबेडकर से सीखा है 

नोट : गाँधी मौत की सजा के खिलाफ नहीं था, क्यूंकि इरविन ने जब गाँधी से पूछा की भगत सिंह को फांसी देने से माहौल ख़राब तो नहीं होगा, तो गाँधी ने जवाब दिया की कुछ नहीं होगा दे दो फांसी 

इरविन ने रिटायरमेंट के बाद लंदन में ये भी कहा था की, भगत सिंह को फांसी देने की हमसे ज्यादा जल्दी मोहनदास गाँधी को थी 

नोट 2 : गाँधी का ये पोता पश्चिम बंगाल का राज्यपाल था 
2004 में धनञ्जय चटर्जी नाम के शख्स को कोलकाता के जेल में फांसी दी गयी, अगर मोहनदास गाँधी का ये पोता मौत की सजा के खिलाफ है तो  धनञ्जय चटर्जी के लिए क्षमा याचिका क्यों नहीं भेजी 

याकूब मेमन के लिए ही भेजी 
सच ये है की ये गंधिया खानदान हमेशा से ही आतंकवाद और जिहादी कट्टरपंथियों का समर्थक रहा है