भारत की मीडिया दोगलेपन में काफी आगे है, हमेशा एजेंडा चलाती है : मारिया विर्थ, जर्मन लेखिका



भारत की सेक्युलर मीडिया की सच्चाई अब लगभग पूरी दुनिया ही जान चुकी है 
और इसी कारण भारत की मीडिया को वर्ल्ड इकनोमिक फोरम ने दुनिया की दूसरी सबसे नीच मीडिया का भी ख़िताब दिया था 

ऐसी मीडिया जो पैसा लेकर खबर बनाती और खबर चलाती है 
जर्मन मूल की लेखिका मारिया विर्थ जो की भारत के बारे में काफी जानकारी रखती हैं, वो 35 सालों से भारत के संपर्क में है, उन्होंने भी भारतीय मीडिया पर टिपण्णी की है 
देखें उन्होंने भारतीय मीडिया के बारे में क्या कहा है 


मारिया ने भारतीय मीडिया पर कहा की अगर कोई मुस्लिम विक्टिम हुआ तो मीडिया फ़ौरन उसका  मजहब बताती है, पर अगर कोई मुस्लिम अपराधी हुआ तो यही मीडिया उसका नाम तक नहीं बताना चाहती 

मारिया विर्थ का कहना है की भारत की मीडिया काफी दोगली है, और दोगलेपन में काफी आगे है 
बता दें की मारिया विर्थ ने सही बात कही 
ये मीडिया अख़लाक़, पहलु खान, जुनैद का मजहब, नाम पता सब बताती है 
पर अगर कोई अब्दुल, सलीम, जावेद अपराध करता है तो मीडिया "युवक ने की चोरी", ऐसा कहकर दोगलेपन का रिकॉर्ड ही बना देती है 

भारतीय मीडिया के इसी दोगलेपन के कारण ही  वर्ल्ड इकनोमिक फोरम ने भारतीय मीडिया को दुनिया की दूसरी सबसे नीच मीडिया का ख़िताब भी दिया था, वैसे हम दावे से कह सकते है की भारतीय मीडिया जल्द नंबर 1 भी हो जाएगी