भारत हमारे (चीन के) मुकाबले में नहीं आ सकता इसका कारण सिर्फ सोच का फर्क है : जैक मा




चीन के मशहूर उद्योगपति और अलीबाबा के मालिक जैक मा ने एक कार्यक्रम के दौरान भारत को आइना दिखाया है, जैक ने भारत के बारे में ऐसी टिपण्णी की जिसे शायद भारत के लोग पसंद न करे 
पर जैक मा की बातों में तथ्य भी है जिसे नाकारा नहीं जा सकता 

जैक मा ने कहा की चीन और भारत दोनों एक साथ आज़ाद हुए थे, दोनों ही देशों में लेबर फाॅर्स की कमी नहीं, पानी खनिज इत्यादि सबकुछ एक सामान है, जनसँख्या भी बराबर है 
दोनों ही देशों के पास अलग अलग समुन्द्र है, बहुत कुछ एक जैसा है 

पर भारत और चीन में बहुत फर्क है 
जैक मा ने कहा की, सोच से ही चीजों में फर्क आता है, जहाँ भारत के लोग देशी चीजों को, देशी उत्पाद को शुरू से ही तुच्छ समझते है, हमेशा ही विदेशी चीज को वरियता देते है, उनको देशी चीज पसंद आती ही नहीं 

जैक मा ने बताया की देशी चीजों को न पसंद करने के कारण भारत के लोग देशी उत्पाद से ही दूर रहते है 
ऐसे में देशी कम्पनियाँ बढ़ती ही नहीं है, और अधिक पैसा न होने के कारण कम्पनियाँ रिसर्च और तकनीक में पीछे रहती है 
वहीँ भारत के लोग विदेशी चीजों को वरीयता देते है, और इसी कारण दुनिया भर की कम्पनियाँ भारत में अच्छा व्यापार करती है 

इसी के बाद जैक मा ने बताया की चीन में बिलकुल इसके उलट है 
यहाँ हम यानि चीनी लोग देशी उत्पाद को वरीयता देते है, विदेशी सामान कितना भी अच्छा हो 
कम ही लोग उसका इस्तेमाल करते है, ऐसे में देशी कंपनियों को पैसा मिलता है, वो रिसर्च उत्पादन और तकनीक पर खर्च कर बेहतरीन काम करती है 

जैक मा ने बताया की ये भारत और चीन के लोगों में बेसिक फर्क है, और इसी के कारण भारत कभी चीन के मुकाबले में नहीं आ सकता 

अबको बता दें की कुछ दिनों पहले एक भारतीय ने भी वीडियो बनाया था 
और उसने भी काफी शोध के बाद यही चीजें बताई थी, वो वीडियो भी आप देख कर समझ सकते है की जैक मा ने क्या कहा, और वो क्या बताना चाह रहे थे