कष्ट सहकर देश की रक्षा करते है जवान, पर इनको बलात्कारी, हत्यारा, गुंडा बताने वाले जरा भी नहीं सोचते !



ठीक बात है की, कोई भी शख्स सेना को एक नौकरी की तरह ही ज्वाइन करता है 
देशभक्ति करने कम ही लोग सेना में जाते है, ठीक बात है 

पर जो एक बार सेना में ज्वाइन कर लेता है 
वो किस प्रकार कष्ट सहकर देश की रक्षा करता है, ये समझने की जरुरत है 

सबकी अपनी फॅमिली होती है, सबके परिवार होते है, डर भी  सबको लगता है 
पर फिर भी एक सैनिक देश की रक्षा करने के लिए अपनी ड्यूटी करता ही है, और सच मानिये  कई तरह के कष्ट सहता है हर सैनिक 

सिर्फ लड़ाई में ही नहीं उसे बाढ़, भूकंप में भी लोगों की रक्षा के लिए लगाया जाता है 
मान लीजिये किसी इलाके में बाढ़ आ जाये, कुछ भी हो जाये 
एक सिविलियन तो वहां से सुरक्षित जगह पर भेज दिया जाता है, पर उस इलाके में सैनिक तब भी तैनात रहते है 

जैसलमेर के बॉर्डर पर, कश्मीर के बॉर्डर पर 
लोग नहीं सैनिक तैनात रहते है, हर स्तिथि में सैनिक अपना कर्तव्य निभाता है, जान जोखिम में डालकर काम करता है, कई तरह के कष्ट सहता है 

पर हमारे देश के वामपंथी, कांग्रेस और आम आदमी पार्टी 
हमारा कहने का मतलब है, देश के सेक्युलर और वामपंथी तत्व, इसी सेना को बलात्कारी, हत्यारी, गुंडा बताने से पहले जरा भी नहीं सोचती 

जिस देश में सैनिक और किसान का सही सम्मान होता है, वही देश महान होता है