भारत की जीत : चीन की निकली हेकड़ी, डर कर डोकलाम से सेना वापस बुलाने का फैसला !


चीन ने अपनी सेना को डोकलाम से वापस बुलाने का फैसला कर लिया है 
कल तक चीन भारतीय सेना को वापस जाने को कह रहा था, पर अब खुद भाग खड़ा हुआ, ये भारत की चीन पर एक बड़ी जीत है 

चीन क्यों भागा डोकलाम से??

ये सच है कि चीन की हेकड़ी निकल चुकी है।इसके कारण अधोलिखित हैं।

1) चीनी सेना ने अपनी सरकार से कहा कि भारतीय सेना बिना युद्ध के पीछे हटने को तैयार नहीं है। वे युद्ध के लिए पूरी तैयारी किये हुए हैं। पर पहले वार नहीं कर रहे हैं इससे लगता कि उनका इरादा खतरनाक है, ये युद्ध छिटपुट नहीं संपूर्णता से होगा। हमें भी वैसी तैयारी करनी पड़ेगी।

2) चीन की खुफिया सूत्रों ने ये खतरनाक रिपोर्ट्स भारत और भूटान की मिटींग की भेजी, जिसमें ये तय हुआ था कि बिना चीन द्वारा अधिगृहित जमीन वापस लिए इस क्षेत्र में शान्ति संभव नहीं है। निहायत जरूरी है कि 1947 के समय जो भूस्थिति थी उसे फिर बहाल किया जाय, यानि  भारत और भूटान का मन ये है की चीन के कब्जे की जमीनों को वापस लिया जाये 

3) चीन के रक्षासूत्रों ने सूचित किया कि युद्ध की स्थिति में भारत एकसाथ जल,थल व नभ से पूरा प्रहार करेगा। उसने चीन के सभी मुख्य शहरों को अग्नि मिसाइल से निशाने पर ले रखा है। सीमापर ब्रह्मोस तैनात है। भारत के सैनिक भी 1962 का दाग धोना चाहते हैं।

4) चीन के सेना कमान ने कहा कि हमारे सैनिकों का मनोबल गिरा हुआ है,वेतन नियमित नहीं मिलने से भी वे नाराज चल रहे हैं।अज्ञात कारणवश वे भयभीत भी हैं। जमीनी युद्ध में हमें काफी नुकसान हो सकता है।भारत पहले के जमीन को वापस लेने का मन बनाये हुए है।

5) इसके आलावा चीन आकलन कर रहा था कि विश्व पटल पर वह अकेला हो चुका है,23 देशों से उसके सीमा विवाद हैं उनसब को मोदी गूँथकर माला बना चुके हैं,वियतनाम तो इतने गुस्से में है कि ब्रह्मोस मिलते ही ठोक देगा। पाकिस्तान एक साथ दे सकता है पर उसका कोई बाजार भाव नहीं है।

6) उल्लेखनीय है कि चीन कीसेना विश्व की तीसरी सब से बड़ी सबल सेना है और भारत की सेना चौथा स्थान रखती है।

7) पर चीन के लिए चिन्ताजनक यह है कि भारतीय सेना युवा है जबकि चीन की सेना वृद्ध है।युद्ध कौशल और आमने सामने की लड़ाई में भारतीय सेना दुनिया की सर्वश्रेष्ठ सेना है।नंबर वन और नंबर दो वाली सेना को भारतीय सेना पारंपरिक युद्ध में मात दे सकती है।