वाह रे मजहबी अन्धविश्वास : हूरों के लिए धरती से ब्रा और पैंटी लेकर जाना चाहते थे आतंकी



इस्लामिक आतंकवाद की पहचान बन चूका ISIS अपनी आखिरी साँसे गिन रहा है 
इराक तो पूरी तरह ISIS से मुक्त हो गया है, और सीरिया में भी ISIS न के बराबर बचा है, शहरों में कुछ आतंकी अभी भी छिपे हुए है 

सीरिया की सेना ने पिछले दिनों आत्मघाती हमले की कोशिश करते कुछ आतंकियों को पकड़ा 
आतंकी खुद को बम से उड़ा लेने की फिराक में थे, पर इनका बम फटा ही नहीं और सेना ने इन्हे पकड़ लिया 

आतंकियों की तलाश में उनकी जेबों में से महिलाओं के अंडरगार्मेंट यानि ब्रा पैंटी मिली 
जब सेना ने कड़ाई से पूछताछ की तो जिहादियों ने सबकुछ बता दिया 

आतंकियों ने कहा की ये ब्रा पैंटी वो हूरों के लिए ले जा रहे थे 
मरने के बाद अल्लाह से उनको हूरें मिलती और धरती से वो उन्ही हूरों के लिए अपनी पसंद की ब्रा और पैंटी लेकर जा रहे थे 

इससे मालूम चलता है कि इन आतंकवादियों का इस तरह ब्रेनवॉश किया जाता है कि वे 'जन्नत में हूरों' से मिलने की कल्पना करते हुए आत्मघाती हमला करने जैसे दुस्साहस को अंजाम देते हैं... हद है सुतियापे की भी ..अब बताओ हूरों को पेंटी ,ब्रा पहनाने के लिए ये जिहादी खुद को ही उड़ा रहे हैं ...

मजहबी अन्धविश्वास का इस से बड़ा प्रमाण क्या होगा 
और आमिर खान जैसे लोग इसपर कोई फिल्म नहीं बनाने वाले