जिहादियों को भी सलाह दें मोदी, "मजहब के नाम पर देश को जलाओगे क्या, हिन्दुओ को जीने दो"



पश्चिम बंगाल में सिर्फ जिहादी भीड़ ही नहीं बल्कि वामपंथी और ममाता बनर्जी की सरकार सभी मिलकर हिन्दुओ का शोषण कर रहे है 
ताजा दंगों में 1 शख्स की मौत हुई है, और वो भी हिन्दू समुदाय से है, नाम था कार्तिक घोष 

हिन्दुओ को पूजा करने, अंतिम संस्कार करने में भी दिक्कते हो रही है 
हिन्दू मंदिरो का प्रमुख कट्टरपंथी जिहादियों को बना दिया जा रहा है,  हिन्दुओ की बंगाल में  दयनीय स्तिथि है 

बीते दिनों प्रधानमंत्री मोदी ने गुजरात में हुए एक कार्यक्रम में गौरक्षकों को सलाह दी थी 
मोदी ने कहा था की, "गाय के लिए इंसान को मारोगे क्या"

बंगाल में जिहादी भीड़ हिन्दुओ का शिकार कर रही है, हिन्दू पलायन को मजबूर है 
सैंकड़ो मकान और दूकान लूट ली गयी है 
बंगाल भी भारत में ही है, बांग्लादेश में नहीं, उसी भारत में जिसके प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी है 

हिन्दुओ की दयनीय स्तिथि पर देश का प्रधानमंत्री चुप नहीं रह सकता, क्यूंकि हिन्दू भी इसी देश का नागरिक है 
हिन्दू कोई दोयम दर्जे का नागरिक नहीं है 
जिस तरह प्रधानमंत्री मोदी ने गौरक्षको को सलाह दी, उसी तरह जिहादियों को भी सलाह दे 
जिहादी चाहे कश्मीर में हो या बंगाल में 

"मजहब के नाम पर, मजहब के लिए देश को जलाओगे क्या"

और सलाह ही नहीं, पश्चिम बंगाल में आये दिन दंगे होते है, हर महीने खबर आती है, और हर बार हिन्दू समुदाय ही निशाना बनाया जाता है, साफ़ है की वहां की सरकार का जिहादियों को सम्पूर्ण संरक्षण और समर्थन है 
अतः मोदी पश्चिम बंगाल की सरकार को बर्खास्त कर, वहां के हिन्दुओ के जान और माल की सुरक्षा को 
सुनिश्चित करें