निशाना भी गुजराती हिन्दू, ताकि मोदी को "फेल" बताकर, गुजरात में फायदा लिया जा सके !



मुस्लिम आतंकियों ने बहुत सोच समझकर  अमरनाथ यात्रा पर गए हिन्दू तीर्थ यात्रियों को निशाना बनाया है 
राहुल गाँधी 8 जुलाई को चीनी राजदूत से गुपचुप मुलाकात करते है 
पहले कांग्रेस मुलाकात से इंनकार करती है
 पर बाद में राहुल गांधी फंस जाते है तस्वीरे बाहर आने लगती है फिर कांग्रेस कहती है हां मुलाकात हुई

देश में राहुल गांधी पर चर्चा होने लगती है और लोग राहुल गांधी के गिरफ़्तारी की मांग करने लग जाते है, और तभी की डिबेट शुरू हो
शाम को 8 से 8.30 पर आतंकी हिन्दू तीर्थ यात्रियों का कत्लेआम कर देते है

ये चीज भी किसी से छुपी हुई नहीं है की कांग्रेस के कश्मीरी अलगाववादी आतंकियों, और पाकिस्तान से कैसे सम्बन्ध है, कांग्रेस जब चाहे तब गिलानी जैसे आतंकियों से संपर्क कर सकती है 
गिलानी के सईद सलाहुद्दीन, हाफिज सईद से सीधे संपर्क है 

और सईद सलाहुद्दीन और हाफिज सईद के पाकिस्तान के हुक्मरानो से सीधे सम्बन्ध है 
कांग्रेस के बड़े ऊँचे सम्बन्ध है, इस पार्टी के लिए संपर्क साधना कोई मुश्किल काम नहीं है 

अमरनाथ यात्रियों का कत्लेआम तो किया ही गया, सोच समझकर 2 जगह हमले किये गए 
और दोनों जगह गुजारती हिन्दुओ को निशाना बनाया गया 
अब कांग्रेस गुजरात में भी नरेंद्र मोदी को फेल बताकर इसका लाभ ले सकती है 

देखिये कांग्रेस पार्टी ने ये काम शुरू भी कर दिया 


ये है बर्खास्त आईपीएस संजीव भट्ट, इसकी बीवी काँग्रेस में है, और मणिनगर गुजरात से नरेंद्र मोदी के खिलाफ विधानसभा का चुनाव भी लड़ चुकी है, कांग्रेस के  टिकट पर 

मामला गंभीर है, और राहुल गाँधी और कांग्रेस पार्टी की स्तिथि संदिग्ध है 
राहुल गाँधी का चीनी से चुपचाप मिलना, फिर चर्चा होने पर अमरनाथ यात्रियों पर अचानक से हमला हो जाना, कांग्रेस के पहले से अलगाववादियों और पाक से मजबूत सम्बन्ध 
बहुत गंभीर मामला है, और राहुल गाँधी के विशेष जांच की जरुरत है