तुष्टिकरण वाली ममाता को झटका, 6 विधायक और 2000 कार्यकर्त्ता शामिल होंगे बीजेपी में


तुष्टिकरण की राजनीती करने वाली तृणमूल कांग्रेस के सुप्रीमो ममता बनर्जी को बहुत बड़ा झटका लगा है। तृणमूल कांग्रेस 6 विधायक31 जुलाई तक भाजपा में शामिल होने जा रहे हैं। जो छह विधायक भाजपा में शामिल होने वाले हैं उनमें आशीष साहा, सुदीप रॉय बर्मन, प्रनाजित सिंह रॉय, दिलीप सरकार, बिश्वबंधु सेन और डीसी एच शामिल है। ये सभी विधायक 24 जुलाई को नई दिल्ली में भाजपा अध्यक्ष अमित शाह से मुलाकात कर सकते है।

महत्वपूर्ण मीटिंग में इन विधायकों की भाजपा में नई यात्रा पर फैसला होगा। बताया जा रहा है कि इन विधायकों ने शुक्रवार को एक बैठक में भाजपा में शामिल होने के बारे में फैसला किया। बैठक के बाद विधायक सुदीप रॉय बर्मन ने कहा, दो सप्ताह पहले भाजपा के शीर्ष अधिकारियों से शुरुआती बातचीत हुई थी। जैसा कि पहले से तय था हमने तृणमूल कांग्रेस की सुप्रीमो ममता बनर्जी से अनबन के बाद एनडीए के राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार रामनाथ कोविंद के पक्ष में मतदान किया। 

हम अगले कुछ दिन में भाजपा अध्यक्ष अमित शाह से नई दिल्ली में मुलाकात करेंगे और औपचारिक रूप से भाजपा में शामिल होंगे। आशीष साहा ने कहा, हमें उम्मीद है कि मंगलवार को नई दिल्ली में अमित शाह से मुलाकात होगी। बैठक में हमारी किस्मत के अगले कदम पर फैसला होगा। साहा ने कहा कि हम 31 जुलाई तक भाजपा में शामिल होंगे। हम चाहेंगे कि भाजपा में शामिल होने का कार्यक्रम अगरतला में रखा जाए। हाल ही में इन विधायकों की ओल्ड टीएमसी भवन में पार्टी कार्यकर्ताओं के साथ बैठक हुई थी। इसमें विधायकों के फैसले पर चर्चा हुई।

उन्होंने अपने कार्यकर्ताओं से फीडबैक प्राप्त किया। टीएमसी के सूत्रों का दावा है कि कई अन्य कार्यकर्ता भी ममता बनर्जी के नेतृत्व वाली तृणमूल कांग्रेस छोडऩे वाले इन विधायकों का अनुसरण करेंगे। आपको बता दें कि ममता बनर्जी ने कांग्रेस के नेतृत्व वाले विपक्ष की राष्ट्रपति पद की उम्मीदवार मीरा कुमार का समर्थन किया था। 

लेकिन त्रिपुरा के इन 6 विधायकों ने ममता बनर्जी के आदेश को नहीं माना और कोविंद के समर्थन में मतदान की घोषणा कर दी। इसके बाद तृणमूल कांग्रेस ने इन विधायकों से अपने संबंध खत्म कर दिए। ये विधायक पहले कांग्रेस में थे लेकिन पिछले साल पश्चिम बंगाल में कांग्रेस के सीपीआई-एम से तालमेल के बाद इन्होंने पार्टी छोड़ दी और तृणमूल कांग्रेस में शामिल हो गए। अब ये विधायक भाजपा में शामिल होने जा रहे हैं।