56 कट्टरपंथी देशों को जूते की नोंक पर रखता है इजराइल, इसलिए इजराइल के नाम से तड़पने लगते है कट्टरपंथी !


आप भारत के किसी भी मुसलमान से इजरायल के बारे में बात करें, करीब 99 फ़ीसदी मुसलमान इजरायल का नाम सुनते ही भड़क जाएंगे, ऐसा लगेगा कि इजरायल ने भारत के मुस्लिमों के साथ बहुत बड़ा अन्याय कर दिया है जबकि असलियत यह है कि इजरायल ने आज तक भारत के मुस्लिमों के साथ कोई भी जुल्म नहीं किया है. हर देशवासी यह सोचकर परेशान रहता है कि जब इजरायल ने भारत के मुस्लिमों का कुछ बिगाड़ा ही नहीं है तो मुसलमान लोग इजरायल से इतने नाराज क्यों रहते हैं, इजरायल का नाम सुनते ही भारत के मुसलमान भड़क क्यों जाते हैं.

इजरायल के नाम से क्यों भड़क जाते हैं मुसलमान

दरअसल इजरायल एक यहूदी देश है और चारों तरफ से मुस्लिम देशों से घिरा हुआ है, उसके पड़ोस में रहने वाले मुस्लिम देश जॉर्डन, फिलिस्तीन, अम्मान, ईरान, ईरान, सीरिया, अरब, तुर्की, लेबनान रोजाना इजरायल को ख़त्म करने के सपने देखते हैं लेकिन इजरायल टेक्नोलॉजी और सुरक्षा के क्षेत्र में इतना ताकतवर है कि अकेला ही सभी देशों पर भारी पड़ता है,

 इजरायल भले ही एक छोटा सा देश है लेकिन वह 10 मुस्लिम देशों पर अकेला ही भारी पड़ता है, उसका सबसे बड़ा दुश्मन है फिलिस्तीन, फिलिस्तान अपने आतंकवादियों के जरिये हमेशा इजरायल पर अटैक करवाता रहता है लेकिन इजरायल एक के बदले 100 लोगों को ख़त्म कर देता है और फिलिस्तीन को तहस नहस कर देता है, 

मार खाने के बाद फिलिस्तीन खुद को पीड़ित दिखाता है इसलिए भारत के मुसलमान फिलिस्तीन को पीड़ित मानते हैं, एक मुस्लिम देश होने की वजह से भारत के मुसलमान भी फिलिस्तीन के साथ हैं इसलिए ये लोग इसलिए ये लोग इजरायल से नफरत करते हैं.

भारत के मुसलमानों को इसलिए भी इजरायल से होती है क्योंकि सभी देश इजरायल को ख़त्म करना चाहते हैं लेकिन सफल नहीं हो पा रहे हैं, मुस्लिम देश पीछे होते जा रहे हैं तो इजरायल आगे बढ़ता जा रहा है, इजरायल के पास ऐसे ऐसे हथियार हैं, ऐसी ऐसी मिसाइलें हैं जो आतंकियों को उनके घर में घुसकर ख़त्म कर देती हैं, अब यही मिसाइलें और हथियार इजरायल भारत को देने जा रहा है जिन्हें भारत कश्मीरी आतंकवादियों और पाकिस्तान के खिलाफ इस्तेमाल करेगा, अब भारत के मुस्लिम सोच रहे हैं कि इजरायल खुद तो मुस्लिम देशों को मारता है अब भारत को भी वे हथियार दे रहा है.

हमारा कहने का मतलब ये है कि मुस्लिम देशों से हमदर्दी की वजह से भारत के मुस्लिम इजरायल से नफरत करते हैं जो कि उन्हें नहीं करना चाहिए क्योंकि हर देश को अपनी रक्षा करने का हक है, क्या आप ये चाहते हैं कि सभी मुस्लिम देश मिलकर इजरायल को ख़त्म कर दें और वो कुछ ना करे, अगर इजरायल ने अपने चारों तरफ रक्षा कवच बनाया है तो अपनी रक्षा के लिए, 

अगर इजरायल ने टेक्नोलॉजी का आविष्कार किया है तो अपनी जरूरतें पूरी करने के लिए, अगर इजरायल कृषि टेक्नोलॉजी में दुनिया के सबसे आगे है तो अपने भोजन की जरूरतें पूरी करने के लिए, अगर इजरायल आतंकवादियों को ख़त्म कर देता है तो अपनी रक्षा के लिए इसलिए भारत के मुस्लिमों को मोदी की इजरायल यात्रा को पॉजिटिव लेना चाहिए।