बंगाल दंगों में 1 व्यक्ति की मौत, मीडिया नहीं बता रही उसका नाम क्यूंकि उसका नाम है "कार्तिक घोष"



पश्चिम बंगाल के उत्तरी 24 परगना में हुए हिन्दू विरोधी दंगों में 1 व्यक्ति की मौत हो गयी 
इस व्यक्ति के दूकान और घर पर जिहादी भीड़ ने हमला किया और सुबह 6 बजे उस व्यक्ति का शव मिला 

मीडिया इतनी खबर बता रही है 

"बंगाल में हुए दंगो में 1 शख्स की मौत"

पर ये मीडिया आपको उस शख्स का न नाम बता रही है और न धर्म 
जबकि जुनैद, अख़लाक़, पहलु खान के मामलों में नाम मजहब खानदान, कोट में कितने छेद है, बाटली में कितनी दारू है सब मीडिया बताती है 

कारण भी है, जिस शख्स की मौत हुई है उसका नाम है "कार्तिक घोष", और उसे मारने वाले जिहादी समुदाय से है, इसलिए मीडिया मृतक का न नाम बता रही है, और न ही उसके परिजनों का इंटरव्यू लिया जा रहा है 


हिन्दु  शख्स ममाता बनर्जी के शासन में मार दिया गया 
इस शख्स की मौत को दबा ही देगी मीडिया, कोई जुनैद, पहलु खान, अख़लाक़ थोड़ी है 

बंगाल में हिन्दुओ की स्तिथि काफी दयनीय हो चुकी है, वहां की सरकार के संरक्षण में जिहादियों की भीड़ हमले कर रही है और गजब की बात तो ये है की 1 की भी गिरफ़्तारी तक नहीं की जा रही है 

भारत के कट्टरपंथी गाज़ा फिलिस्तीन के कट्टरपंथियों के लिए छाती पीटने निकल पड़ते है, भारत के हिन्दुओ को कम से कम बंगाल के हिन्दुओ के आवाज को तो उठाना चाहिए, बंगाल बांग्लादेश या पाकिस्तान में थोड़े है 
मीडिया कार्तिक घोष का नाम तक नहीं बता रही 
क्यूंकि वो हिन्दू थे