तुलसी दास को 1 ही महीने में की पड़ी आत्महत्या, बिट्टू अली पर बहुत भरोसा किया था


आये दिन लव जिहाद के मामले सामने आते ही रहते है। विशेष समुदाय दवारा हिन्दू लड़कियों को प्रेम जाल में फंसाया जाता है और उनका धर्म परिवर्तन कर उन्हें शादी के जाल में फंसा दिया जाता है। 

फिर शादी के बाद उन्हें प्रताड़ित किया जाता है। एक ऐसा ही मामला सामने आया है तिनसुकिया जिले में स्थित परबतिया की, जहां एक एक हिंदू महिला को पहले तो शादी के जाल में फंसाया गया और फिर उसे प्रताड़ित किया गया।

इन परेशानियों से परेशान होकर उस महिला ने आत्महत्या कर ली। इसके बाद उस महिला के शव के साथ इतनी सांप्रदायिकता दिखाई गई कि उस महिला के शव को न कब्रिस्तान में जगह मिली और ना ही श्मशान में जगह मिली। जिसके बाद पुलिस ने महिला के माता-पिता की मदद करते हुए उस महिला का हिन्दू रीती रिवाज़ से दाह-संस्कार किया गया।

बता दें कि 23 वर्षीया तुलसी दास ने करीब एक महीने पहले 27 वर्षीय बिट्टू अली के साथ शादी की थी। लेकिन इसके बाद बिट्टू अपनी बीबी तुलसी दास को प्रताड़ित करने लगा और प्रताड़ना से परेशान होकर तुलसी ने आत्महत्या कर ली। जब तुलसी के शव को अंतिम संस्कार की जगह नहीं मिली तो पुलिस ने महिला के माता-पिता की मदद की और उसका अंतिम संस्कार कराया।

तुलसी दास ने बहुत भरोसा किया बिट्टू अली पर, पर शादी के बाद बिट्टू अली ने अपने गैंग से ऐसा शोषण करवाया की 
प्रेम का भूत 1 महीने में ही उतर गया, और 23 साल की उम्र में आत्महत्या करनी पड़ी, लव जिहाद के इतने मामले आ चुके है, पर इन युवतियों की आँखे नहीं खुलती और ऐसे मामले आये दिन आते रहते है