1950 के बाद पहली बार किसी ने चीन को दिखाई है उसकी औकात, और वो है 2017 का भारत !


भारत ने चीन को समझौते के लिए कहा तो चीन ने भारत के साथ सैन्य गतिरोध पर समझौता करने से कर दिया इंकार। जिसमें चीन ने भारत को धमकी देते हुए कहा कि भारत को ही पीछे हटना होगा लेकिन चीन के इस बात से भारत पर कुछ असर नहीं दिखा। भारत ने सैन्य गतिरोध के लिए 6000 सैनिक तैनात कर दिए हैं। चीन को समझना होगा कि अब भारत 1962 का भारत नहीं है अब भारत हर हमले का माक़ूल जवाब देना जनता है।

इस बीच अपनी समुद्री सीमा में चीनी पनडुब्बियों की कई बार हुई घुसपैठ के बाद भारत और सतर्क हो गया है। भारत ने चुंबी घाटी में किसी प्रकार का परिवर्तन, निर्माण कार्य करने से पहले भारत, चीन और भूटान के बीच सहमति बनाने संबंधी साल 2012 के समझौते को याद दिलाते हुए ये साफ कर दिया है कि भारत इस मामले में भूटान का साथ देता रहेगा, इसके अलावा वह दोकलम पहाड़ से संबंधित किसी भी जगह पर किसी प्रकार के निर्माण की इजाजत नहीं देगा।

आपको बता दें कि अभी इजराइल दौरे पर गए भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी इजरायल से ऐसे हथियार की डील करने जा रहें है, जिससे पाकिस्ताकन और चीन के होश उड़ जाएंगे। भारत, इजरायल से हेरोन ड्रोन खरीदने जा रहा है, जिससे सीमा मोर्चे पर काफी मजबूती मिलेगी। 10 हेरोन टीपी ड्रोन को लेकर अहम डील होगी। हेरोन टीपी ड्रोन हवा से जमीन पर मार करने वाली मिसाइल से लैस हैं।

इनकी तुलना अमेरिका के प्रिडेटर ड्रोन और रीपर ड्रोन से की जाती है। यह लगातार 30 घंटे तक उड़ने की छमता रखता है। यह खुफिया जानकारी इकट्ठा करने में भी सछम है। यह हवा से ही आतंकी ठिकानों को पहचान सकता है, निशाना लगा सकता है और नस्ता नाबूद कर सकता है। चीन और पाकिस्तान के दिन अब लदते जा रहे है भारत मजबूती के तरकश में एक और तीर शामिल करने जा रहा है।