चीन को भारत ने दिया कड़ा जवाब, चीन की 1 सड़क के बदले भारत ने बनाई 73 सड़कें


चीन को भारत ने इस बार बेहद कड़ा जवाब दिया है। चीन की एक सड़क के जवाब में भारत ने 73 सड़कें बना दी हैं।

केंद्र सरकार ने मंगलवार को कहा कि भारत चीन से लगने वाली सीमा पर 73 सड़कें बना रहा है, क्योंकि इनकी काफी जरूरत है। होम मिनिस्ट्री में राज्यमंत्री किरण रिजिजू ने लोकसभा में ये जानकारी दी।  उन्होंने कहा- हमने वहां 73 सड़कें बनाने का फैसला किया है। इनमें से 30 बनकर तैयार हो चुकी हैं। 73 में से 46 डिफेंस मिनिस्ट्री जबकि बाकी यानी 27 होम मिनिस्ट्री तैयार करा रही है। 

रिजिजू ने आगे कहा- वैसे तो इन्हें 2012-13 में ही तैयार हो जाना था लेकिन ये इलाके काफी ऊंचाई पर हैं और इसलिए वहां सामान पहुंचाना आसान नहीं होता। इसके लिए होम सेक्रेटरी की लीडरशिप में एक हाईपावर कमेटी बनाई गई है।

सिक्किम में जारी दोनों देशों के तनाव के बीच मंगलवार को चीन ने आरोप लगाया कि भारत सियासी फायदा उठाने के लिए सिक्किम के डोकलाम में घुसपैठ कर रहा है। चीन की फॉरेन मिनिस्ट्री ने कहा- हम भारत से मांग करते हैं कि वो सिक्किम से फौरन अपनी फौज हटाए, ताकि वहां तनाव ज्यादा ना बढ़े।

चीन ने ये भी कहा है कि वो इस मुद्दे पर दूसरे देशों की एम्बेसीज को जानकारी दे रहा है। दूसरी ओर, भारत ने कहा है कि वो चीन से लगने वाली सीमा पर बेहद जरूरी 73 सड़कें बना रहा है। कईं सड़के तैयार हैं।

सिक्किम के ट्राइजंक्शन (जहां भारत, भूटान और चीन की सीमाएं मिलती हैं।) में करीब एक महीने से भारत और चीन की सेनाएं आमने-सामने हैं। चीन यहां एक सड़क बनाना चाहता है।

भारत और भूटान इसका विरोध कर रहे हैं।  मंगलवार को चीन की फॉरेन मिनिस्ट्री के स्पोक्सपर्सन ली कांग ने कहा- सिक्किम में घुसपैठ की जानकारी हमने फॉरेन डिप्लोमैट्स को दी तो वो हैरान रह गए। उन्होंने जानना चाहा कि क्या वास्तव में ऐसा कुछ हुआ है? हम फॉरेन डिप्लोमैट्स से लगातार बातचीत कर रहे हैं। 

न्यूज एजेंसी के मुताबिक, चीन ने पिछले हफ्ते कुछ फॉरेन डिप्लोमैट्स के साथ एक सीक्रेट मीटिंग की थी और इसमें उन्हें सिर्फ अपना पक्ष बताया था।  स्पोक्सपर्सन ने आरोप लगाया कि भारत की सेना ट्राइजंक्शन में घुसपैठ कर रही है। भारत सरकार इस मुद्दे को सियासी फायदे के लिए इस्तेमाल करना चाहती है। हम चाहते हैं कि भारत फौरन वहां से फौज हटाए। हम नहीं चाहते कि वहां दोनों सेनाओं के बीच जंग के हालात बनें।

 भारत और चीन के बीच 3,488 किलोमीटर लंबी बॉर्डर है। ये जम्मू-कश्मीर से लेकर अरुणाचल प्रदेश तक फैली हुई है। इस बॉर्डर का एक हिस्सा (करीब 220 किलोमीटर) सिक्किम में आता है। इसी इलाके के एक सेक्शन को लेकर विवाद है।